Body में किस तरह फैलता और पनपता है कैंसर?आप इन संकेतों को पहचानें और बरतें ये खास सावधानियां।

कैंसर का नाम सुनते ही सबके मन में डर बैठ जाता है। कैंसर कई तरह के होते हैं। शरीर के जिस हिस्से में कैंसर होता है। उसे उसी नाम के कैंसर के नाम से जाना जाता है। जैसे मुंह में होने वाला कैंसर, मुंह का कैंसर, स्किन कैंसर इत्यादि। मौजूदा समय में ह्रदय रोगों के बाद कैंसर से मरने वालों की संख्या लगातार बढ़ती जा रही है। वर्तमान समय में कैंसर सबसे ज्यादा खतरनाक बीमारी मानी जाती है, क्योंकि इसका उपचार फिलहाल विकासशील देशों में नहीं है। कैंसर जैसी घातक बीमारी किसी भी उम्र के व्यक्ति को अपनी चपेट में ले सकती है चाहे वह छोटा हो या बड़ा। इंडियन काउंसिल ऑफ मेडिकल रिसर्च के अनुसार 2020 तक कैंसर के 17.3 लाख तक नए मामले सामने आ सकते है, जिसमें से 8.8 लाख तक लोग अपनी जान गंवा सकते हैं।

दरअसल, इस बीमारी से मरने वालों लोगों की संख्या इतनी ज्यादा होने का कारण इसके लक्षणों का बहुत देर से पता चलना है। बहुत से लोग इसके लक्षणों को सही समय पर नहीं पहचान पाते, जिसके कारण उन्हें एडवांस स्टेज अपनी चपेट में ले लेती है और वह इस बीमारी का शिकार हो जाते हैं। ऐसा भी नहीं है कि यह बीमारी अचानक से इतना बढ़ जाती है अगर इसके शुरुआती लक्षणों पर ध्यान दिया जाए तो कैंसर जैसी बीमारी से बचाव आसान हो जाता है। हम आपको बताने जा रहे हैं कि कैंसर होने से पहले आपका शरीर किस प्रकार आपको आगाह कर देता है कि आपको अब सावधानियां बरतना शुरू कर देना चाहिए।

कैंसर के शुरुआती संकेत (Early signs of cancer)
भूख कम लगना (Appetite loss)
भूख न लगने की समस्या हमारे पाचन तंत्र से जुड़ी होती है, चाहे वह बच्चे हों या बड़े कोई भी इसका शिकार हो जाता है। पाचन क्रिया खराब होना आम बात है, जिसके जल्द दुरुस्त किया जा सकता है लेकिन अगर आपको कई दिनों से भूख बहुत कम लग रही है, तो आपको तुरंत डॉक्टर को दिखाना चाहिए क्योंकि यह एक अच्छा संकेत नहीं है और इसे कैंसर का शुरुआती संकेत कहा जा सकता है।

लगातार सांस फूलना (Shortness of breath)
सांस फूलने के पीछे अक्सर लोग तेज चलने या दौड़ने को कारण मानते हैं लेकिन ऐसे बहुत से लोग हैं जिनकी सांस बिना तेज चले या दौड़े भी फूल जाती है। सांस फूलना आपकी सेहत के लिए अच्छा संकेत नहीं हैं क्योंकि यह कैंसर का संकेत हो सकता है। अगर आपकी भी सांस सामान्य रूप से फूलती है या फिर सांस लेने में दिक्कत हो रही है तो तुरंत डॉक्टर से जांच कराएं।

लंबे समय तक सर्दी-खांसी रहना (Prolonged cold and cough)
मौसम में बदलाव सर्दी-खांसी का कारण हो सकता है लेकिन इसके उपचार के लिए ली गई दवा से भी यह ठीक नहीं हो रहा है तो या फिर सर्दी-खांसी को तीन या उससे ज्यादा का समयहो गया तो तुरंत डॉक्टर से सलाह लेकर जांच कराए क्योंकि लंबे समय तक सर्दी-खांसी कैंसर का संकेत हो सकता है।

घाव का ठीक ना होना (Wound healing)
आपके शरीर के किसी अंग पर किसी कारण से चोट लगने के बाद कोई घाव बन गया है और वह ठीक होने का नाम नहीं ले रहा है तो डॉक्टर को दिखाना ही एकमात्र विकल्प है। ये छोटी-छोटी चीजें बाद में एक बड़ी बीमारी का रूप ले लेती है, जो आगे चलकर कैंसर का कारण बन सकती हैं।

लगातार खून बहना (Continuous bleeding)
अगर आपको शौच, पेशाब या थूकते वक्त किसी प्रकार की ब्लीडिंग हो रही तो वक्त आ गया है कि आप सावधान हो जाए और तुरंत डॉक्टर से मिलें क्योंकि यह आपकी सेहत के लिए खतरनाक साबित हो सकता है। भले ही यह कैंसर ना हो लेकिन यह स्वास्थ्य बिगड़ने का एक संकेत हो सकता है।