सावधान: WhatsApp पर हो रहा डिलीवरी स्कैम, एक गलती और बैंक से उड़ जाएगा सारा कैस

नई दिल्ली: जब से दुनिया में कोरोना वायरस की महामारी फैली है, तब से ऑनलाइन घोटाले बढ़ रहे हैं. सिक्योरिटी रिसर्चर्स ने यूजर्स को एक नए डिलीवरी स्कैम के बारे में चेतावनी दी है जो कि तेजी से फैल रहा है. स्कैमर वाट्सऐप के माध्यम से मैलिशियस लिंक वाले मैसेज भेजते हैं और यूजर्स को उनके ऑनलाइन ऑर्डर के बारे में नोटिफाई करते हैं. भोले-भाले यूजर स्कैम के शिकार हो जाते हैं और अपनी सारी बैंक में जमा पूंजी खो बैठते हैं. यदि आप काफी फुर्तीले हैं, तो आप इस तरह के घोटालों के लिए कभी नहीं जाएंगे, लेकिन जिस वक्त आपने इन पर भरोसा कर लिंक पर क्लिक किया, फायदा स्कैमर्स को होगा.

लैब के रूसी सिक्योरिटी रिसर्चर्स ने पैकेज डिलीवरी घोटालों के बारे में चेतावनी जारी की है जो तेजी से बढ़ रहे हैं. रिसर्चर्स ने खुलासा किया कि अटैकर ऑनलाइन डिलीवरी कंपनियों के अधिकारियों के रूप में सामने आए. फिर वे उस व्यक्ति को एक पैकेज के बारे में नोटिफाई करते हैं जिसे उनके लोकेशन तक पहुंचाने की जरूरत होती है. हालांकि, यह प्रोसेस उतनी सहज नहीं है जितनी दिखाई देती है.

साइबर क्रिमिनल तब यूजर्स को प्रोसेस को पूरा करने के लिए मैसेज के साथ दिए गए लिंक पर क्लिक करने के लिए कहते हैं. उन्हें यह सुनिश्चित करने के लिए एक छोटा सा भुगतान करने के लिए कहा जाता है कि प्रोडक्ट सुरक्षित रूप से उनके लोकेशन तक पहुंचा दिया जाए.

लैब ने कहा, “रिसीवर द्वारा पेमेंट की डिमांड करने वाले अनएक्सपेक्टेड पार्सल इस पिछली तिमाही में सबसे ज्यादा कॉमन स्कैम में से एक रहे. ‘मेल कंपनी’ के चालान का कारण सीमा शुल्क से लेकर शिपमेंट लागत तक कुछ भी हो सकता है. सर्विस के लिए भुगतान करने का प्रयास करते समय यूजर्स को एक नकली वेबसाइट पर ले जाया गया, जहां उन्होंने न केवल पैसे खोने का जोखिम उठाया (जो ईमेल में लिखे हुए से कहीं अधिक हो सकता है) बल्कि उनके बैंक कार्ड के डिटेल को भी एक्सेस कर लिया गया. का जोखिम उठाया.”

जब यूजर लिंक पर क्लिक करता है, तो उसे एक नकली वेबसाइट पर ले जाया जाता है, जहां उसे छोटा भुगतान करने के लिए अपने बैंक डिटेल एंटर करने के लिए कहा जाता है. ऐसा तब होता है जब ग्राहक को अपने ऑनलाइन ऑर्डर के बारे में कुछ भी याद नहीं रहता है.

जब आप Amazon या Flipkart से कुछ खरीदते हैं, तो आप जानते हैं कि आपने क्या ऑर्डर किया है और पार्सल आपको कब डिलीवर किया जाएगा. ऐसा इसलिए है क्योंकि आपके पास ऐप पर एक ट्रैकर है और आपको प्रोडक्ट्स के स्टेटस के बारे में नोटिफिकेशन भी मिलते हैं. कोई भी कंपनी आपको सुरक्षित डिलीवरी सुनिश्चित करने के लिए कभी भी भुगतान करने के लिए नहीं कहेगी, भले ही आपने पेमेंट के कैश ऑन डिलीवरी मोड का विकल्प चुना हो. ऑर्डर पहले आपको डिलीवर किया जाएगा और फिर आप पेमेंट कर सकते हैं या आप अपने वॉलेट या कार्ड का उपयोग करने से पहले पैसे का पेमेंट कर सकते हैं. आपसे कोई एक्स्ट्रा पेमेंट नहीं लिया जाएगा चाहे कुछ भी हो जाए.

रिसर्चर्स ने यूजर्स को ऐसे ईमेल से सावधान रहने और हमेशा उन मैसेजेस के सोर्स की जांच करने के लिए कहा है जो बहुत विश्वसनीय नहीं लगते हैं. आपको कभी भी किसी ऐसे लिंक पर क्लिक नहीं करना चाहिए जिसमें वेबसाइट का उचित एड्रेस न हो या संदिग्ध लगे. ऐसे खतरों, फ़िशिंग हमलों को दूर रखने के लिए सिक्योरिटी सॉल्यूशन सेट करने की सलाह दी जाती है.