सावधान: कहीं आपको भी तो नहीं मिल रहा 500 रुपये का नकली नोट, इस तरह से करें पहचान

नई दिल्ली: कई बार आपको नकली नोट मिल जाते हैं, इसके बाद आपको बड़ी समस्या झेलनी पड़ती है. इससे बचने के लिए आपको थोड़ा सावधान रहने की जरूरत है. भारतीय रिज़र्व बैंक (RBI) ने नए नोटों को लेकर कुछ दिन पहले अतिरिक्त सिक्योरिटी फीचर्स जारी किया था. इसमें 500 रुपये के नोट को लेकर रंग, आकार, थीम, सिक्योरिटी फीचर्स और डिजाइन बताया था. जो पुराने नोट से थोड़ा अलग है.

आरबीआई ने बताया था कि नए नोट का आकार 63 मिमी x 150 मिमी है. इसका रंग स्टोन ग्रे है तथा इसमें नई थीम भारतीय हैरिटेज स्थल लाल किला है. अतिरिक्त सिक्योरिटी फीचर्स के बावजूद आरबीआई ने कहा था कि बाजार में नकली नोट काफी प्रचलन में आ गए हैं. अपनी वेबसाइट पर आरबीआई ने नकली और असली नोट के पहचान के लिए कुछ चीजें बताई थीं.

आरबीआई की निम्नलिखित विशेषताएं नकली नोटों को पहचानने में मदद कर सकती हैं. नए 500 के नोट के बाईं तरफ ‘500’ लिखा हुआ है. इसमें देवनागिरी लिपि का इस्तेमाल किया गया है. इस 500 के नोट में राष्ट्रपिता महात्मा गांधी के चित्र का ओरिएंटेशन और स्थिति बदल गई है. इसमें राष्ट्रपिता का चित्र अब केंद्र में है.

महात्मा गांधी के बगल में लिखा है ‘भारत इंडिया’

महात्मा गांधी की छवि के ठीक बगल में छोटे अक्षरों में ‘भारत इंडिया’ लिखा हुआ है. महात्मा गांधी की छवि के दाईं ओर नोट का धागा झुकाने पर ब्लू से ग्रीन में बदल जाता है. नए नोट में वर्तमान RBI गवर्नर शक्तिकांत दास के हस्ताक्षर गारंटी क्लॉज के नीचे नोट पर मुद्रित होंगे. राष्ट्रपिता महात्मा गांधी की छवि मुद्रा नोट के दाईं ओर वाटरमार्क सेक्शन में उभरेगी.

नोट के दाईं ओर अशोक स्तंभ मौजूद

अशोक स्तंभ नोट के दाईं ओर मौजूद है. दृष्टिबाधितों के लिए महात्मा गांधी चित्र, अशोक स्तंभ प्रतीक, ब्लीड लाइन और पहचान चिह्न की उभरी हुई प्रिंटिंग है. करेंसी नोट के पीछे की तरफ बाईं ओर नोट की छपाई का वर्ष अंकित है. इस नोट में स्लोगन के साथ स्वच्छ भारत का लोगो नोट के पीछे बाईं ओर नीचे प्रदर्शित होता है.