शादी का जोड़ा खरीदने बाजार गई थी होने वाली दुल्हन, कफन में लौटी घर

देहरादून। देहरादून के मेहूवाला स्थित चौहान परिवार में दो हफ्ते बाद शहनाई बजनी थी। मगर, शनिवार की सुबह ऐसी खबर घर पहुंची कि वहां मातम पसर गया। माता पिता और भाईयों के साथ शादी के लिए खरीदारी करने सहारनपुर जा रही युवती हादसे का शिकार हो गई। मोहंड में हुए इस हृदय विदारक हादसे में वह अपने माता पिता के साथ काल का ग्रास बन गई। हादसे की खबर से पूरे गांव का माहौल गमगीन हो गया है।

जानकारी के मुताबिक प्रवीण चौहान जल संस्थान पित्थुवाला डिविजन में बाबू के पद पर तैनात थे। उनकी बेटी शिल्पी की 19 दिसंबर को शादी और 15 दिसंबर को सगाई थी। शनिवार को प्रवीण चौहान की छुट्टी थी। कई दिनों से सभी सहारनपुर से सामान लेने जाने की योजना बना रहे थे।

शिल्पी को वहां से शादी का जोड़ा पसंद करके लाना था। जबकि, नाते रिश्तेदारों के लिए भी काफी उपहार व अन्य सामान खरीदने जाना था। भाइयों ने भी ठान रखी थी कि दीदी के साथ जाकर वह भी अपनी खरीदारी करेंगे। लेकिन, हंसते खेलते यह परिवार मोहंड में तबाह हो गया।

शनिवार को प्रवीण चौहान के साथ उनकी पत्नी मंजू, बेटी शिल्पी, बेटा दीक्षांत और निशांत कार में सवार हो गए। इसके बाद करीब पौने दस बजे वह मोहंड के पास सामने से आ रही बस से टकरा गए। हादसे में शिल्पी, मंजू और प्रवीण चौहान की मौत हो गई। मौत की जैसे ही गांव में खबर पहुंची तो वहां से प्रवीण चौहान की रिश्तेदार पार्षद ऊषा चौहान और अन्य लोग मौके के लिए रवाना हो गए।

सहारनपुर जिला अस्पताल में तीनों का पोस्टमार्टम कराया गया। इसके बाद इनके शवों को देहरादून स्थित श्रीमहंत इंदिरेश अस्पताल की मोर्चरी में रखा गया है। परिजनों ने बताया कि रविवार को तीनों शवों का पोस्टमार्टम कराया जाएगा।

पुलिस के अनुसार वैगनआर कार को प्रवीण चौहान चला रहे थे। मोहंड के पास वाहन को ओवरटेक करने दौरान सामने से आ रही बस से कार की सीधी भिडंत हो गई। हादसे में दंपती और बेटी की मौके पर ही मौत हो गई।

बेटी की शादी के लिए चौहान दंपती बच्चों के साथ खरीदारी करने के लिए सहारनपुर आ रहे थे। वह तीन लाख रुपये लेकर घर से साथ लेकर चले थे। हादसे के बाद कार से पुलिस ने रुपये बरामद किए।