वेस्ट यूपी में किसान आंदोलन: जानिए क्यों पड़ सकता है बीजेपी को भारी!

लखनऊ। उत्तर प्रदेश में किसानों की महापंचायत ने एक बार फिर सरकार की मुखालफत की पुरजोर शुरुआत कर दी है। मुजफ्फरनगर के जीआईसी मैदान में किसानों ने मोर्चा खोलकर ये कह दिया है कि अगर सरकार उनकी बात नहीं मानती तो यूपी और उत्तराखंड में बीजेपी को सत्ता से बेदखल कर दिया जाएगा। एक ओर जहां किसानों ने बीजेपी की मुखालफत का अभियान छेड़ दिया है, वहीं सरकार के डेप्युटी सीएम केशव प्रसाद मौर्य ने कह दिया है कि किसान आंदोलन का हश्र भी शाहीनबाग के आंदोलन सा होगा। हालांकि राजनीति के जानकार इस बात पर हैरानी जताते हुए ये कह रहे हैं कि बीजेपी किसानों के आंदोलन को अंडर एस्टीमेट कर रही है और इसका असर 2022 चुनाव पर हो सकता है।

केशव प्रसाद मौर्य ने रविवार को कानपुर में अपने एक कार्यक्रम के बाद मीडिया से बात करते हुए कहा, ‘किसान आंदोलन में एसपी, बीएसपी और कांग्रेस के लोग हैं। जैसे शाहीनबाग टांय-टांय फिस्स हुआ, वैसा ही किसान आंदोलन का भी होगा। आगे चुनाव होने को हैं, साफ हो जाएगा कि जनता किसके साथ खड़ी है। हमनें इन्हें 2019 में भी पराजित किया है और इस बार भी यही होगा।’ केशव प्रसाद मौर्य के इस बयान को राजनीति के जानकार अतिआत्मविश्वास मान रहे हैं। पश्चिम यूपी में लंबे समय तक अखबारों के संपादक रह चुके वरिष्ठ पत्रकार रवींद्र श्रीवास्तव कहते हैं कि शाहीनबाग और किसान आंदोलन के बीच एक बड़ा अंतर है जो बीजेपी के लोग नहीं समझ पा रहे हैं।

शाहीनबाग का आंदोलन कुछ हफ्तों में खड़ा हुआ और बाद में उसके कई लोग बीजेपी में ही शामिल हो गए। किसानों को अंडरएस्टीमेट करना गलत होगा। बंगाल में ममता बनर्जी 1700 वोट से अपने आंदोलन की धरती पर चुनाव हार सकती हैं, तो बीजेपी के गढ़ भी तो ऐसे ही हैं। विधानसभा चुनाव में जरा सा भी वोट शिफ्ट नुकसान कर सकता है, बंगाल में टीएमसी के वोटरों में थोड़ी सी टूट बीजेपी को कहां पहुंचा सकी उदाहरण देख लीजिए।

2019 में जिन 9 पर हारे, उसमें 6 वेस्ट यूपी की सीट
केशव प्रसाद मौर्य ने अपने बयान में यह कहा है कि उन्होंने 2019 के चुनाव में विपक्ष को पराजित किया है। ये बात सही हो सकती है, लेकिन केशव प्रसाद मौर्य एक ऐसी राजनीतिक तस्वीर को भूल रहे हैं, जिसमें उन्हें 9 लोकसभा सीट गंवानी भी पड़ी है। बड़ी बात ये कि जिन 2014 की अपेक्षा 2019 में बीजेपी की जो 9 सीट कम हुई है, उसमें से 6 सीटें पश्चिम यूपी की हैं। इनमें बिजनौर, नगीना, मुरादाबाद, रामपुर, संभल, अमरोहा की सीटें शामिल हैं। वहीं मुजफ्फरनगर जैसे इलाके में जहां केंद्रीय मंत्री संजीव बलियान खुद खाप पंचायत के सदस्य हैं, वहां बीजेपी सिर्फ 6526 वोट के अंतर से जीत सकी थी।

कल्याण और हुकुम सिंह वाला वक्त अब नहीं
रवींद्र श्रीवास्तव कहते हैं कि बीजेपी किसानों के प्रभाव को अंडर एस्टीमेट कर रही है। ये समझना होगा कि विधानसभा में एक स्थानीय विरोध भी जीत हार के समीकरण बदल देता है। अतीत की पृष्ठभूमि में पश्चिम यूपी में बीजेपी विपक्षी पार्टी की तरह 20-25 सीटों पर जीतती रही है, वो भी ऐसे वक्त में जब उसके पास यहां कल्याण सिंह और हुकुम सिंह जैसे नेता हुआ करते थे। अब स्थितियां अलग हैं, ऐसे में किसान 2022 में बीजेपी की जीत पर प्रतिकूल असर डाल दें ये कहना अतिश्योक्ति नहीं होगी। किसान आंदोलन, टिकैत के आंसू और बीजेपी का अति आत्मविश्वास पार्टी का नुकसान कर सकते हैं।