यूपी पहली बार 20 हजार किसानों के सामने होगा गन्ना मूल्य का ऐलान, विपक्ष की धडकने तेज

लखनऊ। लखनऊ के स्मृति उपवन में 18 सितंबर को भारतीय जनता पार्टी किसान सम्मेलन आयोजित करने जा रही है। इसमें 20 हजार से अधिक किसान शामिल होंगे।किसान सम्मेलन के दौरान मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ बहुप्रतीक्षित गन्ना मूल्य बढ़ोत्तरी का ऐलान कर सकते हैं। सूत्रों की मानें तो शासन स्तर पर मूल्य बढ़ोत्तरी की सारी औपचारिकताएं पूरी कर ली गई हैं, सिर्फ घोषणा होना बाकी है। ऐसे में प्रदेशभर से आए किसानों के बीच इसकी घोषणा होने की संभावना है।

संयुक्त किसान मोर्चा के आंदोलन के जवाब में भाजपा किसान मोर्चे ने मोर्चा संभाल लिया है। भाजपा किसान मोर्चा के प्रदेश अध्यक्ष कामेश्वर सिंह ने बताया कि योगी सरकार ने किसानों के हित के तमाम फैसले लिए हैं। किसान सम्मेलन के जरिए मुख्यमंत्री का आभार जताएंगे। उन्होंने कहा कि प्रदेश के 403 विधानसभा क्षेत्रों से 50-50 किसान आएंगे। सिंह ने कहा कि किसानों की ऋण माफी, गन्ना मूल्य का भुगतान, नए चीनी मिल लगाना और बंद चीनी मिलों को पुनः चलवाना, सिंचाई हेतु चल रहे ट्यूबलों का बिजली कनेक्शन न काटे जाने का आदेश देना, पराली जलाने पर दर्ज मुकदमे वापस लेना और इस कारण लगे अर्थदंड को माफ करना, पश्चिम यूपी के डार्क जोन में बंद ट्यूबैलों के लिए बिजली का कनेक्शन देना, 24 नई डिस्टलरियों सहित आठ बंद पड़ी डिस्टलरियों को चलाने जैसे तमाम फैसले योगी सरकार ने लिए हैं।

उन्होंने ने बताया कि अगस्त में मोर्चा ने 95 विधानसभा क्षेत्रों में किसान संवाद किए जिसमें लगभग 60 हजार किसान उपस्थित रहे। उन्होंने कहा कि प्रदेश का किसान भाजपा के साथ है। कुछ मुद्दाविहीन दल किसानों को गुमराह करने का प्रयास कर रहे हैं। मगर उनके मंसूबे कभी सफल नहीं होंगे। उन्होंने कहा कि 17 सितंबर को प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी का 71वां जन्मदिवस है। इस दिन को किसान मोर्चा प्रदेश के सभी जिला केन्द्रों पर किसान-जवान-सम्मान दिवस के रूप में मनाएगा। जिला केन्द्रों पर 71 किसान व जवानों को सम्मानित किया जाएगा।