मोदी सरकार का बड़ा फैसला, काबुल से सभी कर्मचारी और राजदूत जल्द लौटेंगे देश

नई दिल्ली। अफगानिस्तान पर तालिबान के कब्जे के बाद सभी देश अपने-अपने लोगों को वहां से सुरक्षित निकालने में जुटे हैं। अफगानिस्तान में कई भारतीय लोग फंसे हुए हैं। हालांकि, सरकार की तरफ से इन लोगों की संख्या के बारे में कोई आधिकारिक जानकारी अभी सामने नहीं आई है। इस बीच सरकार ने घोषणा की है कि काबुल स्थित भारत के दूतावास के सभी कर्मचारी और राजदूत तत्काल देश लौटेंगे। विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता अरिंदम बागची ने कहा कि मौजूदा परिस्थितियों को देखते हुए, यह निर्णय लिया गया है कि काबुल में हमारे राजदूत और उनके भारतीय कर्मचारी तुरंत भारत लाए जाएंगे।

एयरफोर्स के दो C-17 ग्‍लोबमास्‍टर विमान भेजे
इससे पहले अफगानिस्तान की राजधानी काबुल समेत वहां के अन्य इलाकों में फंसे भारतीयों को निकालने के लिए वायुसेना के दो C-17 ग्‍लोबमास्‍टर विमानों को भेजा गया था। इनमें से एक ने रविवार रात उड़ान भरी और काबुल से कुछ यात्रियों को लेकर सोमवार सुबह भारत पहुंचा। दूसरा विमान ने मंगलवार सेुबह काबुल से करीब 130 लोगों को लेकर उड़ान भरी।

लोगों की मदद को तैयार है सरकार
इस बीच केंद्र सरकार की तरफ से जारी बयान में कहा गया है कि वह अफगानिस्तान से लौटने वाले भारतीय नागरिकों के संपर्क में है। इसके अलावा अफगानिस्तान में रह रहे सिख और हिंदू समुदाय के प्रतिनिधियों से भी सरकार की तरफ से संपर्क किया जा रहा है। विदेश मंत्रालय की तरफ से कहा गया किजो लोग अफगानिस्‍तान छोड़ना चाहते हैं, हम भारत आने में उनकी मदद करेंगे।

अफगानिस्तान के हालात पर नजर
सरकार ने कहा है कि वह अफगानिस्‍तान के हालात पर करीब से नजर रखे हुए है। विदेश मंत्रालय की तरफ से जारी बयान में कहा गया, “हमने इमरजेंसी नंबरों की लिस्ट जारी की है। लोगों तक मदद पहुंचा रहे हैं। हमें जानकारी है कि अफगानिस्‍तान में अब भी कुछ भारतीय हैं जो लौटना चाहते हैं और हम उनके संपर्क में हैं।