मैच हार कर भी हॉकी टीम ने जीत लिया दिल, PM मोदी ने कही ये भावुक बात

नई दिल्ली: टोक्यो ओलंपिक के 12वें दिन भारतीय पुरुष हॉकी टीम फाइनल की रेस से बाहर हो गई. सेमीफाइनल के इस रोमांचक मुकाबले में उसे वर्ल्ड चैम्पियन बेल्जियम के हाथों 5-2 से हार मिली. हालांकि टीम इंडिया के पास अब भी मेडल जीतने का मौका है. वह अब ब्रॉन्ज मेडल के लिए खेलेगी.

इस बीच पूरा देश टीम इंडिया के साथ खड़ा है. ट्विटर पर लोग अपने-अपने तरीकों से टीम का हौसला बढ़ा रहे हैं. देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से लेकर खेल मंत्री अनुराग ठाकुर ने ट्वीट कर टीम का हौसला बढ़ाया है.

PM मोदी ने कही दिल छू लेने वाली बात
PM मोदी ने ट्वीट कर कहा, ‘हार-जीत तो जीवन का हिस्सा है. टोक्यो ओलंपिक 2020 में हमारी पुरुष हॉकी टीम ने अपना सर्वश्रेष्ठ दिया और यही मायने रखता है. टीम को अगले मैच और उनके भविष्य के प्रयासों के लिए शुभकामनाएं. भारत को अपने खिलाड़ियों पर गर्व है.’

खेल मंत्री बोले- हम आपके साथ हैं
खेल मंत्री अनुराग ठाकुर ने कहा, ‘बॉयज, आपने अच्छा खेला. आपने अपना सर्वश्रेष्ठ दिया. हम आपके साथ हैं. आपके पास अभी भी एक मैच है. हम हैं टीमइंडिया! और हम कभी हार नहीं मानते!’

मेडल की आस बरकरार
कानून मंत्री और पूर्व खेल मंत्री किरेन रिजिजू ने ट्वीट कर कहा, ‘बॉयज, आपने भारत को गौरवान्वित किया है. आप अब भी ओलंपिक पदक के साथ वापस आ सकते हैं. कांस्य पदक मैच के लिए अपना सर्वश्रेष्ठ दें.’

भारत के हाथ से निकला ये मौका
भारतीय हॉकी टीम अगर ये मुकाबला जीत जाती तो वह सिल्वर मेडल पक्का कर लेती, लेकिन ऐसा नहीं हुआ. टीम इंडिया ने आखिरी बार 1980 के ओलंपिक में गोल्ड मेडल जीता था.

एलेक्सजेंडर हेंडरिक्स की हैट्रिक ने पलटा मैच
एलेक्सजेंडर हेंडरिक्स (19वें, 49वें, 53वें) की शानदार हैट्रिक के दम पर मौजूदा वर्ल्ड चैम्पियन बेल्जियम ने पुरुष हॉकी के सेमीफाइनल मुकाबले में भारत को 5-2 से हरा दिया. इस मैच में एक समय भारत 2-1 से आगे था, लेकिन इसके बाद वह बुरी तरह पिछड़ता चला गया और अंतत: 1980 के बाद पहला फाइनल खेलने से चूक गया. अब भारत को कांस्य के लिए प्रयास करना होगा. भारत का यह मैच किससे होगा, इसका फैसला जर्मनी और ऑस्ट्रेलिया के बीच होने वाले दूसरे सेमीफाइनल के बाद हो जाएगा.