मुनव्वर राणा के फिर बिगड़े बोल, हिंदू भी होते हैं तालिबानी, भारत से ज्यादा उनके पास हथियार

लखनऊ। मशहूर शायर मुनव्वर राना ने अफगानिस्तान मामले में फिर एक विवादित बयान दिया है। उनका कहना है कि जितनी क्रूरता अफगानिस्तान में है, उससे ज्यादा क्रूरता तो हमारे यहां पर ही है। पहले रामराज था लेकिन अब सब बदलकर कामराज है। वे बोले कि जितनी एके-47 उनके पास नहीं होंगी, उतनी तो हिन्दुस्तान में माफियाओं के पास हैं। तालिबानी तो हथियार छीनकर और मांगकर लाते हैं लेकिन हमारे यहां माफिया खरीदते हैं। उन्होंने कहा कि उत्तर प्रदेश में भी थोड़े बहुत तालिबानी हैं, यहां सिर्फ मुसलमान ही नहीं बल्कि हिंदू तालिबानी भी होते हैं।

मुनव्वर राना ने हिन्दुस्तान से बातचीत में कहा कि तालिबान धीरे-धीरे स्थिति संभाल लेगा। उन्होंने कहा कि अफगानिस्तान पर तालिबान का कब्जा उसका अंदरूनी मसला है। यदि तालिबान ने अफगानिस्तान को आजाद करा लिया तो हमें क्या लेना देना। हमारे देश से अफगानिस्तान के रिश्ते बहुत ही अच्छे हैं, हमे कोई फिक्र नहीं करनी चाहिए। उन्होंने कहा कि इस मामले को समझना है तो ब्रिटिश राज में गुलाम हिंदुस्तान की तरह सोचना होगा।

हिन्दुस्तान को तालिबान से डरने की जरूरत नहीं
शायर मुनव्वर राना ने कहा कि हिन्दुस्तान को तालिबान से डरने की जरूरत नहीं है क्योंकि अफगानिस्तान से जो हजारों बरस का साथ है उसने कभी हिन्दुस्तान को नुकसान नहीं पहुंचाया है। जब मुल्ला उमर की हुकूमत थी तब भी उसने किसी हिन्दुस्तानी को नुकसान नहीं पहुंचाया। अफगानिस्तान में महिलाओं पर हो रहे जुल्म के बारे में मुनव्वर राना ने कहा कि धीरे-धीरे सब ठीक हो जाएगा।