मां-बाप समझते बेटा जेल में सजा काट रहा, लेकिन उसे दीवार में चुनवा दिया..5 साल बाद घर में मिला कंकाल

सूरत. गुजरात में सूरत जिले में 5 साल पहले हुई एक हत्या की गुत्थी पुलिस ने अब सुलझा ली है। इस मामले का खुलासा तब हुआ, जब पुलिस ने आशापुरी सोसाइटी विभाग-3 के एक घर की दीवार तोड़कर कंकाल बाहर निकाला। यह कंकाल एक युवक का था, जिसे उसी के दोस्त ने मारकर दीवार में चुन दिया था। उधर, मृतक बेटे के माता-पिता यह समझते रहे कि उनका बेटा अभी जेल में सजा काट रहा है।

घरवाले समझते रहे बेटा जेल में..लेकिन वह मर चुका था
फिलहाल पुलिस ने कंकाल को जांच के लिए फोरेंसिक लैब में भेज दिया गया। वहीं इस मामले में हत्या के आरोपी और 30 से ज्यादा मामलों में शामिल रहे राजू बिहारी को हिरासत में ले लिया गया है। बता दें कि मृतक की पहचान किशन के रुप में हुई, जो खुशीनगर इलाके का रहने वाला था। मृतक कई गैर-कानूनी काम करता था। इसलिए घरवालों को लगता था कि वह किसी जेल में सजा काट रहा होगा। इसलिए परिवार ने उसके लापता होने की शिकायत नहीं करवाई थी। लेकिन जब उसका कंकाल मिला तब कहीं जाकर पता चला कि उनके बेटे की तो हत्या हो चकी है।

जेल से छूटते ही आरोपी की कर दी थी हत्या
पुलिस ने जिस राजू बिहारी को पकड़ा है उसने किशन की हत्या करने की बात कबूल कर ली है। पूछताछ में उसने बताया कि किशन को मारकर शव को घर में बनी सीढ़ी के नीचे वाली दीवार में चुनवा दिया था। दरअसल, मृतक किशन मुखबिरी करते पकड़ा गया था। वह जब पांच साल पहले जेल से पैरोल से बाहर आया तो राजू ने उसको शराब पीने के बहाने घर पर बुला लिया। इसके बाद उसने अपने चार दोस्तों के साथ मिलकर उसकी हत्या कर दी और फिर शव को चुनवा दिया।

Special for You