महात्मा गांधी की करदी राखी सावंत से तुलना, अब देते फिर रहे सफाई

नई दिल्ली। यूपी विधानसभा स्पीकर व उन्नाव जिले से विधायक हृदय नारायण दीक्षित ने हाल ही में दिए विवादित बयान को लेकर सफाई दी है. बीते शनिवार को बांगरमऊ में एक कार्यक्रम के दौरान उन्होंने महात्मा गांधी और राखी सावंत की तुलना से संबंधित एक बयान दिया था. उनका यह बयान सोशल मीडिया पर वायरल हो गया था. वीडियो वायरल होने के बाद उन्होंने अपने बयान पर सफाई पेश की है.

उन्होंने ट्विटर पर लिखा है, सोशल मीडिया पर कुछ मित्र मेरे भाषण के एक वीडियो अंश को अन्यथा अर्थों के संकेत के साथ प्रसारित कर रहे हैं. वास्तव में यह उन्नाव के प्रबुद्ध सम्मेलन में मेरे भाषण का अंश है. जिसमें सम्मेलन संचालक ने मेरा परिचय देते हुए मुझे प्रबुद्ध लेखक बताया था.

उन्होंने आगे कहा कि, मैंने इसी बिंदु से बात आगे बढ़ाते हुए कहा कि कुछ पुस्तकों और लेखों के लिखने से ही कोई प्रबुद्ध नहीं हो जाता. महात्मा गांधी कम कपड़े पहनते थे. देश ने उन्हें ‘बापू’ कहा. लेकिन इसका अर्थ यह नहीं राखी सावंत भी गांधी जी हो जाएंगी. मित्रगण मेरे भाषण को वास्तविक संदर्भ में ही ग्रहण करने की कृपा करें.धन्यवाद.

क्या था विधानसभा स्पीकर का पूरा बयान

हृदय नारायण दीक्षित ने प्रबुद्ध सम्मेलन के दौरान महात्मा गांधी को लेकर कहा था कि गांधी जी कम कपड़े पहनते थे, धोती ओढ़ते थे, गांधी जी को देश ने बापू कहा, अगर कपड़े उतारने से कोई महान बन जाता तो राखी सावंत महान बन जाती. दीक्षित ने आगे कहा कि मैंने 6 हजार किताबें पढ़ी हैं, जिनका विश्लेषण भी किया है.

उन्होंने महात्मा गांधी का जिक्र करते हुए कहा था कि वो कम कपड़े पहनते थे तो देश ने उन्हें बापू कहा, लेकिन ऐसा नहीं है कि कम कपड़े पहनने से कोई बौद्धिक हो जाता है. कम कपड़े पहनने या कपड़े उतारने से कोई बड़ा बनता तो आज राखी सावंत महात्मा गांधी से भी बड़ी होती. दीक्षित का यह बयान सोशल मीडिया पर वायरल हो गया. विवाद और आलोचना के बाद उन्होंने अब इस बयान पर सफाई पेश की है.