भूकंप के तेज झटकों ने मचाई चारों ओर तबाही, 1300 लोगों की मौत, खुले में सो रहे लोग

लेस काएस। कैरेबियाई देश हैती में रविवार को आए भीषण भूकंप में 1297 लोग मारे गए हैं और 2800 से ज्यादा घायल हुए हैं। बड़ी संख्या में रिहायशी मकान और अन्य इमारतें बर्बाद हुई हैं। प्रधानमंत्री एरियल हेनरी प्रभावित इलाकों का दौरा कर रहे हैं। जबकि एक पूर्व सांसद ने किराए पर विमान लेकर घायलों को लेस काएस से राजधानी पोर्ट-ओ-प्रिंस के अस्पतालों में पहुंचाना शुरू कर दिया है।

रिक्टर स्केल पर 7.2 की तीव्रता वाले भूकंप ने इस द्वीपीय राष्ट्र की तस्वीर बदलकर रख दी है। पूरा देश मलबे के ढेर में तब्दील हुआ नजर आ रहा है जिसमें जगह-जगह चीख-पुकार मची हुई है। सैकड़ों लोग मलबे के ढेरों में फंसे हुए हैं, बचाव दल उन्हें निकालने में लगे हुए हैं। बड़ी संख्या में मकान और इमारतें ध्वस्त होने से लाखों लोग खुले में हैं। कोविड-19 महामारी, हाल ही में हुई राष्ट्रपति की हत्या से पैदा राजनीति अस्थिरता और भयंकर गरीबी के बीच आए इस भूकंप से हैती के लोगों की मुश्किलें और बढ़ने की आशंका है। मौसम विभाग ने देश के तटीय इलाकों में सोमवार और मंगलवार को समुद्री तूफान आने की भी आशंका जताई है। कुछ इलाकों में तूफान से पहले की बारिश और तेज हवाएं चलनी शुरू हो गई हैं।

भूकंप का केंद्र राजधानी पोर्ट-ओ-प्रिंस से 125 किलोमीटर दूर पश्चिम में है। भूकंप का तेज झटका लगने के घंटों बाद भी जमीन हिलती हुई महसूस की गई। इससे इमारतों में पड़ी दरारें चौड़ी हुईं और जर्जर हुई कुछ इमारतें ढह गईं। भूकंप से सबसे ज्यादा प्रभावित तटीय शहर लेस काएस की विद्युत व्यवस्था भी भंग हो गई है। इससे बचाव कार्य में बाधा आ रही है। लोग अब पूरी तरह से भगवान भरोसे हैं और खुद को व मलबे में दबे परिजनों को बचाने के लिए प्रार्थना कर रहे हैं।