भाजपा नेता हत्याकांड में बडा खुलासा, तकिये से मुंह दबा छाती पर बैठ गया युवक, सीसीटीवी में…

बड़ौत। उत्तर प्रदेश के बागपत जिले के बड़ौत में भाजपा नेता डॉ. आत्माराम तोमर की सनसनीखेज हत्या से क्षेत्र में हड़कंप मच गया। पुलिस जांच में सामने आया कि भाजपा नेता की हत्या के दौरान एक आरोपी ने हाथ पकड़े, तो दूसरे ने उनकी छाती पर बैठकर तकिये से मुंह दबा दिया। उनका मुंह तब तक दबाए रखा गया, जब तक उनका दम नहीं निकल गया। डॉ. आत्माराम तोमर ने बचाव के लिए संघर्ष भी किया, लेकिन वह खुद को छुड़ा नहीं सके। पोस्टमार्टम रिपोर्ट में इसका खुलासा हुआ है।

डॉ. आत्माराम तोमर की पोस्टमार्टम रिपोर्ट में जिस तरह की बातें सामने आई हैं, उनसे साफ है कि उन्होंने बचाव के लिए संघर्ष किया। पुलिस के अनुसार पोस्टमार्टम रिपोर्ट से पता चला है कि शुक्रवार को सुबह 11 बजे पोस्टमार्टम होने से करीब 30 घंटे पहले हत्या की गई है। उन्होंने बचाव के लिए संघर्ष किया और उनके हाथ पर खरोंच के निशान भी मिले हैं।

माना जा रहा है कि घर में खींचतान के बाद एक हत्यारोपी ने उनके हाथ पकड़ लिए और दूसरे ने छाती पर बैठकर तकिये से मुंह दबा दिया। पुलिस जांच में सामने आया कि हत्यारे 45 तक घर के अंदर रहे। आरोपी सीसीटीवी कैमरे में कैद हो गए हैं। पुलिस अब इस मामले में सीसीटीवी फुटेज के आधार जांच को आगे बढ़ा रही है।

डॉ. आत्माराम तोमर की हत्या करने वाले दोनों आरोपी सीसीवीटी कैमरे में कैद हो गए। दोनों गुरुवार की सुबह करीब 6 बजकर 42 मिनट पर बाइक से पहुंचे। डॉ. आत्माराम को फोन करके गेट खुलवाया और अंदर चले गए।

इसके 45 मिनट बाद करीब 7 बजकर 27 मिनट पर दोनों घर से बाहर निकलते है। इनमें एक स्कार्पियो गाड़ी लेकर निकलता है, तो दूसरा हेलमेट पहनकर बाइक लेकर जाता है। इस बीच ही डॉ. आत्माराम की हत्या होने की बात कही जा रही है। हत्यारोपियों के आने-जाने की घटना कैमरे में कैद हो गई।

डॉ. आत्माराम का गुरुवार रात को शव कमरे में बेड पर पड़ा मिला। सूचना पर रिश्तेदार और उनके करीबी भाजपा नेता पहुंचने शुरू हो गए।

डॉ. आत्माराम की गाड़ी के चालक विजय ने बताया कि मुख्य आरोपी प्रवीण भी रात में करीब 12 बजे वहां पहुंचा और वह करीब पांच बजे तक रहा। वह पुलिस की पूरी गतिविधि देखता रहा। जब पुलिस ने सीसीटीवी फुटेज देखने की बात कही तो वह फरार हो गया।

जिला अस्पताल से पोस्टमार्टम कराने के बाद डॉ. आत्माराम का शव शुक्रवार दोपहर करीब तीन बजे घर पहुंचा। उस समय तक परिवार के अन्य लोग व रिश्तेदार भी घर पहुंच गए थे। शव घर पहुंचते ही परिजन बिलख उठे।

शव को घर पर ही अलग से एक फ्रिजर में रखा गया है। बेटे डॉ. प्रताप ने बताया उनका भाई, मां व चाचा अमेरिका से यहां पहुंचने हैं। उनका भाई व मां शुक्रवार देर रात तक यहां पहुंचे, तो उनके चाचा शनिवार देर रात तक आएंगे। उनके आने पर ही भाजपा नेता का अंतिम संस्कार किया जाएगा।

ड्राइवर विजय ने रात करीब 12 बजे हत्या की जानकारी पुलिस, डॉ. प्रताप और भाजपा के पूर्व जिलाध्यक्ष कुलप्रकाश को दी। सूचना पर सीओ आलोक सिंह, कोतवाली प्रभारी रवि रत्न सिंह पुलिस के साथ मौके पर पहुंचे और शव को पोस्टमार्टम के लिए भेजा। डॉ. प्रताप पत्नी नेहा व बच्चों के साथ रात में करीब एक बजे पहुंचे और घटना की जानकारी ली।

पुलिस ने सामने वाले मकान की सीसीटीवी फुटेज देखी। इससे पता चला कि गैस एजेंसी पर काम करने वाले रिश्तेदार मुजफ्फरनगर के सोंटा गांव निवासी प्रवीण ने अपने साथी सांकलपुट्ठी निवासी बलराम के साथ मिलकर वारदात को अंजाम दिया। पुलिस ने बताया कि प्रवीण को कुछ समय पहले एजेंसी से हटा दिया था। उसे दोबारा रख लिया था। इसके बावजूद वह डॉ. आत्माराम तोमर से रंजिश रखे हुए था। पुलिस ने दोनों के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर तलाश शुरू कर दी है।