बेटी की मौत से गहरे सदमे में थे वरुण गांधी, मोदी ने कॉल कर कही थी जो बात वो…

शादी के बाद हर माता पिता को अपने घर बच्चों की किलकारी गूंजने का इंतजार रहता है। ऐसे में किसी को ये सुख नहीं मिलता है तो किसी को मिलने के बाद फिर से छिन जाता है। मतलब उनके बच्चे की किसी बीमारी या हादसे के चलते मौत हो जाती है। बच्चे को खोने का दुख असहनीय होता है। अपनी आंखों के सामने अपने लाडले या लाड़ली का शव देखना कोई आसान काम नहीं होता है। इंसान अंदर से बुरी तरह टूट जाता है। ऐसे में उसे खुद को संभालने और जीवन में आगे बढ़ते रहने की जरूरत होती है।

वरुण गांधी (Varun Gandhi) भी एक ऐसे पिता हैं जिन्होंने अपनी नवजात बेटी को खोने का दर्द झेला है। संजय गांधी (Sanjay Gandhi) और मेनका गांधी (Maneka Gandhi) के बेटे वरुण तीन बार से लोकसभा सांसद हैं। उन्होंने साल 2011 में यामिनी रॉय से शादी की थी। ये शादी वाराणसी में हुई थी।

शादी के दो साल बाद यानि 18 मार्च 2013 को उनके घर एक नन्हीं परी ने जन्म लिया था। ऐसे में वरुण और यामिनी ने अपनी बेटी का नाम आध्या प्रियदर्शिनी गांधी। बेटी के जन्म से वरुण और यामिनी बेहद खुश थे। उन्हें लगा कि उनके घर साक्षात देवी आई है। वे अपनी बेटी को लेकर सपने सँजोने लगे। लेकिन तभी उनकी खुशियन को नजर लग गई।

वरुण गांधी की नवजात बेटी का एक महीने के अंदर ही निधन हो गया। 13 अप्रैल 2013 को आध्या प्रियदर्शिनी गांधी ने अंतिम संस ली। उनके मस्तिष्क में संक्रमण था जिसके चलते उनका देहांत हो गया। बेटी की मौत के बाद वरुण पूरी तरह से टूट गए थे। वे डिप्रेशन में जा रहे थे। लेकिन फिर पीएम नरेंद्र मोदी का उन्हें एक कॉल आया। मोदी जी ने वरुण को एक ऐसी बात बोली जो आगे चलकर दो साल बाद सच साबित हुई।

वरुण गांधी पीएम नरेंद्र मोदी का बहुत सम्मान करते हैं। वे मोदी जी को पिता के समान मानते हैं। एक इंटरव्यू में वरुण ने बताया था कि कैसे पीएम मोदी की कही गई एक बात भविष्य में सत्य साबित हुई थी। उन्होंने बताया कि बेटी के निधन के बाद मैं और मेरी बीवी यामिनी गांधी गहरे सदमे में थे। बेटी के देहांत के बाद मैं पूरी तरह टूट गया था। तब मुझे सबसे पहला कॉल प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का ही आया था।

वरुण आगे बताते हैं कि मोदी जी ने मुझ से फोन पर कहा कि ‘देखो भगवान परीक्षा लेता है, भगवान ने एक देवी ली है तो एक देवी देगा भी।’ इसके ठीक दो साल बाद वरुण गांधी के घर एक बेटी का जन्म हुआ। इस तरह वरुण के मुताबिक पीएम मोदी की कही गई बात सच साबित हुई।

वरुण गांधी ने अपनी नदूसरी बेटी का नाम अनुसुइया रखा। दादी मेनका गांधी अपनी पोती अनुसुइया के बेहद करीब है। वे अपनी पोती को लेकर संसद भवन भी आ चुकी हैं। दादी पोती के बीच की बॉन्डींग तस्वीरों में साफ देखी जा सकती है। वहीं वरुण गांधी और यामिनी गांधी भी अपनी बेटी अनुसुइया से बहुत प्यार करते हैं। वे अपनी बेटी के साथ एक खुशहाल जीवन जी रहे हैं।