फ्लैट में आपत्तिजनक हाल में थी बहन, साथ वाले की शक्ल देखी तो भाई हो गया बेकाबू…

कानपुर। बैंक कर्मी विशाल अग्रवाल (26) हत्याकांड का पुलिस ने खुलासा कर किशोरी (मृतक की प्रेमिका) समेत तीन आरोपियों को गिरफ्तार किया। घटना को फीलखाना स्थित एक फ्लैट में अंजाम दिया गया था। विशाल को अपनी चचेरी बहन के साथ आपत्तिजनक हालत में देखकर युवक ने लोहे की सरिया से वार कर उसकी हत्या कर दी थी। उसके बाद उन्नाव निवासी दोस्त के साथ मिलकर शव को ठिकाने लगाया था। विशाल की प्रेमिका ने फ्लैट में फैले खून को पानी से धोया था।

फोरेंसिक जांच में फर्श पर खून की पुष्टि हुई। नौबस्ता की संजय नगर कालोनी निवासी विशाल अग्रवाल एचडीएफसी बैंक की सिविल लाइंस शाखा में इंश्योरेंस सेक्शन में काम करता था। सात सितंबर की रात वह लापता हुआ था। 10 सितंबर को उन्नाव के दही थाना क्षेत्र में शारदा नहर के पास एक केमिकल ड्रम में विशाल की लाश मिली थी। एडीसीपी साउथ डॉ. अनिल कुमार के मुताबिक विशाल की एक सहकर्मी व प्रेमिका फीलखाना स्थित फ्लैट में रहती है।

वह अक्सर उससे मिलने जाता था। बगल वाले फ्लैट में सत्यम नाम का शख्स रहता है। उसके घर पर उसकी नाबालिग चचेरी बहन आती रहती थी। उससे भी विशाल के संबंध हो गए थे। वारदात की रात विशाल किशोरी से मिलने पहुंचा था। दोनों फ्लैट के भीतर आपत्तिजनक हालत में थे तभी सत्यम वहां पहुंच गया। सत्यम ने लोहे की सरिया से ताबड़तोड़ वार कर विशाल की हत्या कर दी।

सत्यम फ्लैट में अकेले ही रहता है। उसके माता-पिता नहीं हैं। वह पानी की बोतल सप्लाई करने का काम करता है। पुलिस के मुताबिक वारदात को अंजाम देने के बाद सत्यम ने उन्नाव के माखी थाना क्षेत्र निवासी दोस्त श्रवण कुमार को फोन कर फ्लैट पर बुलाया। आठ सितंबर की सुबह करीब 11 बजे दोनों ने कोपरगंज से एक केमिकल ड्रम खरीदा। इसी ड्रम में विशाल के शव को भरा।

ड्रम सील किया और फिर उसी की स्कूटी से दोनों शव उन्नाव की शारदा नहर के पास लेकर पहुंचे। यहीं पर ड्रम फेंक कर फरार हो गए। ये पूरा काम दिनदहाड़े किया। जिससे किसी को शक न हो।  पुलिस ने मुरे कंपनी से कैंट, नये पुल, शुक्लागंज होते हुए उन्नाव तक के रास्ते के कई सीसीटीवी फुटेज जुटाए। जिसमें आरोपी स्कूटी पर ड्रम लादे जाते दिखाई दे रहे हैं।

पुलिस ने इन फुटेज को साक्ष्य के तौर पर जांच में शामिल किया है। पुलिस के मुताबिक आरोपियों ने शारदा नहर में ही विशाल का मोबाइल फेंक दिया था। सत्यम ने खून से सने अपने कपड़े व विशाल का पर्स नगर निगम की कूड़ा गाड़ी में फेंका था। विशाल की स्कूटी के साथ पुलिस ने फ्लैट से उसका लैपटॉप बरामद किया है।