पेट्रोल पंप के मालिक बनने का सुनहरा मौका, सरकार ने कर दिया ऐलान

नई दिल्‍ली। सरकार ने रिलायंस इंडस्‍ट्रीज लिमिटेड और रिलायंए एवं बीपी के संयुक्‍त उद्यम सहित 7 नई कंपनियों को ऑटो फ्यूल रिटेलिंग लाइसेंस प्रदान किए हैं। पेट्रोलियम और प्राकृतिक गैस राज्‍य मंत्री रामेश्‍वर तेली ने सोमवार को संसद में यह जानकारी दी। ये लाइसेंस नए उदार नियमों के तहत प्रदान किए गए हैं। इनके तहत न्‍यूनतम 250 करोड़ रुपये की शुद्ध संपत्ति वाली कोई भी कंपनी पेट्रोल-डीजल की खुदरा बिक्री के लिए लाइसेंस के लिए आवेदन कर सकती है।

नवंबर 2019 में जारी नई पॉलिसी के तहत रिलायंस इंडस्‍ट्रीज लि., आईएमसी लि., ऑनसाइज एनर्जी प्रा. लि., असम गैस कंपनी, एमके एग्रोटेक, आरबीएमएल सॉल्‍युशंस इंडिया लि. और मानस एग्रो इंडस्‍ट्रीज एंड इंफ्रास्‍ट्रक्‍चर को पेट्रोल-डीजल की खुदरा बिक्री के लिए नए पेट्रोल पंप स्‍थापित करने हेतु मार्केटिंग ऑथोराइजेशन प्रदान किया गया है।

रिलायंस इंडस्‍ट्रीज लि. के पास पहले से ही फ्यूल रिटेलिंग लाइसेंस है, जिसके तहत उसने देश में 1400 पेट्रोल पंपों की स्‍थापना की है। लेकिन यह लाइसेंस इसकी सब्सिडियरी रिलायंस बीपी मोबिलिटी को ट्रांसफर कर दिया गया। इसलिए अरबपति मुकेश अंबानी की कंपनी ने दोबारा आवेदन किया और अन्‍य दूसरा लाइसेंस हासिल किया।

बीपी के साथ रिलायंस के एक अन्‍य संयुक्‍त उद्यम आरबीएमएल सॉल्‍यूशंस इंडिया लि. को भी एक लाइसेंस प्राप्‍त हुआ है। तेली ने बताया कि पेट्रोलियम और प्राकृतिक गैस मंत्रालय द्वारा 8 नवंबर, 2018 को जारी अधिसूचना के तहत वाहन ईंधन की बिक्री के लिए लाइसेंस प्राप्‍त करने के दिशा-निर्देशों में संशोधन किया गया है। संशोधित दिशा-निर्देश कारोबारी सुगमता को बढ़ावा देते हैं और रिटेल सेक्‍टर में निवेश के लिए प्राइवेट कंपनियों को प्रोत्‍साहित करते हैं।

सार्वजनिक तेल विपणन कंपनियों आईओसी, बीपीसीएल और एचपीसीएल के पास वर्तमान में देश में 77,709 पेट्रोल पंप हैं। आरबीएमएल, नायरा एनर्जी (पहले एस्‍सार ऑयल) और रॉयल डच शेल बाजार में प्राइवेट कंपनियां हैं जो सीमित उपस्थिति के साथ मौजूद हैं। आरबीएमएल के पास 1422 पेट्रोल पंप, नायरा के पास 6,152 पेट्रोल पंप और शेल के पास केवल 270 पेट्रोल पंप हैं। बीपी ने कुछ साल पहले देश में 3500 पेट्रोल पंप की स्‍थापना के लिए लाइसेंस हासिल किया था लेकिन कंपनी ने अभी तक अपना काम शुरू नहीं किया है।