पाकिस्तान में महंगाई से हाहाकार, खाने का तेल 400 रुपये लीटर; पेट्रोल के दाम उड़ा देंगे होश

नई दिल्ली. पाकिस्तान में इन दिनों महंगाई चरम पर है. वहां इंफ्लेशन में 12.66% का इजाफा हुआ है. इससे सीधे तौर पर आम लोगों के खाने-पीने और पेट्रोल-डीजल के दामों पर असर पड़ा है. शनिवार को पाकिस्तान की इमरान सरकार ने पेट्रोल-डीजल (Petrol-Diesel Price Hike) में 10 रुपए से ज्यादा की बढ़ोतरी कर दी. जिसके बाद आम आदमी की जेब पर एक्सट्रा बोझ पड़ा है.

सरकार ने दी सफाई
लगातार बढ़ती कीमतों ने पाकिस्तान के लोगों के जीवन में मुसीबतें पैदा कर दी हैं. पाकिस्तान में पेट्रोल के दाम 137.79 रुपए और हाई स्पीड डीजल के 134.48 रुपए हो गए हैं. एक दिन पहले ही सरकार ने बिजली की कीमत में भी 1.39 रुपए का इजाफा किया था, जो अगले महीने से लागू होगा. सरकार ने बढ़ती महंगाई पर सफाई देते हुए कहा कि सरकार पर काफी ज्यादा आर्थिक दवाब है, फिर भी जनता को राहत देने की कोशिश की गई है. पाकिस्तान के वित्‍त मंत्रालय ने पेट्रोल-डीजल की बढ़ती कीमतों से जुड़ा एक नोट‍िफ‍िकेशन जारी करते हुए कहा कि ‘इस समय अक्‍टूबर 2018 के बाद तेल की कीमतें दुनिया में सबसे ज्‍यादा हैं. तेल करीब 85 डॉलर प्रति बैरल बिक रहा है.’ आगे इस नोटिस में कहा गया कि पूरे ऊर्जा क्षेत्र में इन दिनों काफी तेजी देखी गई है. ऐसा मांग और आपूर्ति में आ रही दिक्‍कतों की वजह से है.

विपक्ष ने उठाई पेट्रोल की कीमतें कम करने की मांग
पाकिस्‍तान में बढ़ती पेट्रोल-डीजल की कीमतों का विपक्षी पीपुल्‍स पार्टी ने विरोध करते हुए कीमतें वापस लेने की मांग की है. पीपीपी नेता मियां राजा रब्‍बानी ने कहा कि अभी सितंबर महीने में ही पेट्रोल के दाम 9 रुपये बढ़ाए गए थे. उन्‍होंने कहा कि सभी जरूरी खाद्यान के दाम आसमान छू रहे हैं. ऐसे में इमरान सरकार अपना फैसला तुरंत वापस ले. रब्‍बानी ने कहा कि पेट्रोल के दाम इतने हो गए हैं कि यह अब गरीबों की पहुंच से दूर हो गया है. पाकिस्‍तान में महंगाई का आलम यह है कि खाने के तेल की कीमत करीब 400 रुपये प्रति लीटर हो गई है.

इनकी भी बढ़ी कीमतें
जियो न्यूज की रिपोर्ट के मुताबिक, पिछले सप्ताह मुद्रास्फिति बढ़ने से टमाटर, आलू, घी, मटन और लिक्विड पेट्रोलियम गैस (एलपीजी) सिलेंडर सहित 22 वस्तुएं महंगी हो गई हैं. एलपीजी के एक घरेलू सिलेंडर की कीमत में 43.96 रुपए प्रति किलो, घी की कीमतों में 2.99 रुपए प्रति किलो की बढ़ोतरी हुई, जबकि मटन की कीमतों में 4.58 रुपए प्रति किलो की बढ़ोतरी हुई है.