त्योहारों के बीच कर्मचारियों को सरकार की बड़ी सौगात, खबर पढ़कर होंगे हैरान

1 जुलाई से केंद्रीय कर्मचारियों और पेंशनर्स को 28 परसेंट महंगाई भत्ता लागू हो चुका है, लेकिन अब इंतजार जून 2021 के महंगाई भत्ते का है. खबर है कि सरकार जल्द ही जून का महंगाई भत्ता भी जारी कर सकती है. ऐसा हुआ तो कुल महंगाई भत्ता 28 परसेंट की जगह 31 परसेंट हो जाएगा. यानी केंद्रीय कर्मचारियों की सैलरी में एक बार फिर इजाफा होगा.

जून 2021 का महंगाई भत्ते अभी तय नहीं किया गया है. लेकिन, जनवरी से मई 2021 के AICPI आंकड़ों से साफ है कि 3 परसेंट महंगाई भत्ता और बढ़ेगा. JCM सेक्रेटरी (स्टाफ साइड) शिव गोपाल मिश्रा के मुताबिक, जल्द ही इसका भी ऐलान होना है. हालांकि, इसका भुगतान कब होगा यह अभी तय नहीं है. लेकिन, 3 फीसदी और बढ़ने के बाद महंगाई भत्ता 31 परसेंट फीसदी पर पहुंच जाएगा. मतलब सैलरी में एक बार फिर इजाफा होना तय है.

आपको बता दें कि जनवरी 2020 में महंगाई भत्ता 4 परसेंट बढ़ा था. फिर जून 2020 में 3 परसेंट की बढ़ोतरी हुई थी. इसके बाद जनवरी 2021 में यह 4 परसेंट बढ़ा. यानी इन तीन उछालों में महंगाई भत्ता कुल 11 परसेंट बढ़ा है और अब ये 28% पर पहुंचा है. अब जून में 3 परसेंट की बढ़ोतरी के बाद महंगाई भत्ता 31 परसेंट (17+4+3+4+3) पर पहुंच जाएगा.

केंद्र सरकार ने पिछले 18 महीने से फ्रीज महंगाई भत्ते पर लगी रोक हटा दी है, कर्मचारियों के DA में 11 परसेंट का इजाफा किया गया है, अब केंद्र सरकार के कर्मचारी और पेंशनर्स को 28 परसेंट की दर से DA और DR का पेमेंट किया जाएगा. केंद्रीय कर्मचारी और पेंशनर्स अपनी बेसिक पे और ग्रेड के हिसाब से सैलरी में इजाफे का अंदाजा लगा सकते हैं.

7th Pay Commission मैट्रिक्स के मुताबिक, केंद्रीय कर्मचारियों के लेवल-1 की सैलरी रेंज 18,000 रुपये से लेकर 56900 रुपये तक है. मतलब मिनिमम बेसिक सैलरी 18,000 रुपये है. हम मिनिमम सैलरी पर ही कैलकुलेशन करेंगे कि केंद्रीय कर्मचारी को सितंबर की सैलरी में कितना इजाफा दिख सकता है.

18,000 रुपये की बेसिक सैलरी पर कुल सालाना महंगाई भत्ता 60,480 रुपये होगा. लेकिन अंतर की बात करें तो सैलरी में सालाना इजाफा 23760 रुपये होगा.

1. कर्मचारी की बेसिक सैलरी 18,000 रुपए

2. नया महंगाई भत्ता (28%) 5040 रुपए/माह

3. अबतक महंगाई भत्ता (17%) 3060 रुपए/माह

4. कितना महंगाई भत्ता बढ़ा 5040-3060 = 1980 रुपये/माह

5. सालाना सैलरी में इजाफा 1980X12= 23760 रुपये

31 परसेंट DA पर कैलकुलेशन

अब अगर जून में 3 परसेंट महंगाई भत्ता बढ़ता है तो कुल DA 31 परसेंट हो जाएगा. अब 18,000 रुपये की बेसिक सैलरी पर कुल सालाना महंगाई भत्ता 66,960 रुपये होगा. लेकिन अंतर की बात करें तो सैलरी में सालाना इजाफा 30,240 रुपये होगा.

2. नया महंगाई भत्ता (31%) 5580 रुपए/माह

4. कितना महंगाई भत्ता बढ़ा 5580-3060 = 2520 रुपये/माह

5. सालाना सैलरी में इजाफा 2520X12= 30,240 रुपये

अधिकतम बेसिक सैलरी पर कैलकुलेशन

अब यही कैलकुलेशन लेवल-1 की अधिकतम बेसिक सैलरी 56900 रुपये पर करके देखते हैं. 28 परसेंट महंगाई भत्ते के हिसाब से 56900 रुपये की बेसिक सैलरी पर कुल सालाना महंगाई भत्ता 191,184 रुपये होगा. लेकिन अंतर की बात करें तो सैलरी में सालाना इजाफा 75108 रुपये होगा.

1. कर्मचारी की बेसिक सैलरी 56900 रुपए

2. नया महंगाई भत्ता (28%) 15932 रुपए/माह

3. अबतक महंगाई भत्ता (17%) 9673 रुपए/माह

4. कितना महंगाई भत्ता बढ़ा 15932-9673 = 6259 रुपये/माह

5. सालाना सैलरी में इजाफा 6259X12= 75108 रुपये

31% DA पर कैलकुलेशन

2. नया महंगाई भत्ता (31%) 17639 रुपए/माह

4. कितना महंगाई भत्ता बढ़ा 17639-9673 = 7966 रुपये/माह

5. सालाना सैलरी में इजाफा 7966X12= 95,592 रुपये

31 परसेंट महंगाई भत्ते के हिसाब से 56900 रुपये की बेसिक सैलरी पर कुल सालाना महंगाई भत्ता 211,668 रुपये होगा. लेकिन अंतर की बात करें तो सैलरी में सालाना इजाफा 95,592 रुपये होगा.

हालांकि फाइनल सैलरी कितनी होगी इसका कैलकुलेशन HRA समेत दूसरे और कई भत्ते जोड़ने के बाद ही आएगा. ये आसान कैलकुलेशन सिर्फ एक आइडिया के लिए है कि महंगाई भत्ता बढ़ने के बाद आपकी सैलरी में कितना इजाफा होगा. इसके बाद जब जून 2021 के लिए महंगाई भत्ता 3 परसेंट और बढ़ेगा तो सैलरी उसी हिसाब से और इजाफा देखने को मिलेगा. तब ये पूरी कैलकुलेशन 31 परसेंट पर होगी.