तालिबान का कहरः मामूली बात पर बरसा दीं गोलियां, 2 की मौत.कई जख्मी

काबुल। पाकिस्तान और चीन जैसे देश भले ही तालिबान की ब्रांडिंग में जुटे हों, लेकिन विद्रोही संगठन लगातार अपने काम से दिखा रहा है कि अब भी वह पहले जितना ही क्रूर है। अफगानिस्तान के जलालाबाद देश का झंडा लहराए जाने से कट्टरपंथी इस कदर चिढ़ गए कि गोलियां बरसा दीं। बताया जा रहा है कि फायरिंग में 2 लोगों की जान चली गई तो आधा दर्जन से अधिक लोग जख्मी हैं।

घटना बुधवार की है। सोशल मीडिया पर वायरल हो रहे वीडियो में देखा जा सकता है कि कुछ लोग एक व्यस्त सड़क पर अफगानिस्तान का झंडा हाथों में लेकर प्रदर्शन कर रहे हैं। बताया जा रहा है कि ये लोग तालिबान के झंडे को अस्वीकार करते हुए सरकारी दफ्तरों में देश का झंडा लगाए जाने की मांग कर रहे थे।

तालिबान के लड़कों को यह बर्दाश्त नहीं हुआ और उन्होंने अंधाधुंध फायरिंग शुरू कर दी। जिस समय तालिबानियों ने फायरिंग की, उस समय सड़क पर बड़ी संख्या में आम लोग थे। इस वीडियो को अफगानिस्तान एक अधिकारी नजीब नांग्याल ने ट्विटर पर साझा किया है।

तालिबान पर मेहरबान इमरान, 5 साल बाद मुल्ला मोहम्मद रसूल को किया रिहा
तालिबान ने रविवार को काबुल पर कब्जा कर लिया। राष्ट्रपति अशरफ गनी देश छोड़कर भाग चुके हैं। ऐसे में एक बार फिर अफगानिस्तान में 1996-2001 के दौर में हुई क्रूरता के दृश्य फिर से दिखने लगे हैं। एक दिन पहले ही तालिबानी प्रवक्ता ने प्रेस कॉन्फ्रेंस में कहा है कि उनकी सोच और विचारधारा में कोई बदलाव नहीं आया है।