डॉक्टर पत्नी की जासूसी को पति ने कार में लगा दिया ट्रैकर, फिर जो हुआ पति को होगा अफसोस

गुरुग्राम। गुरुग्राम के एक शख्स का अपनी पत्नी से विवाद चल रहा था। डॉक्टर पत्नी पर निगाह रखने के लिए उसने कथित तौर पर चुपके से उसकी कार में जीपीएस से चलने वाले ट्रैकिंग डिवाइस लगा दिया। 26 सितंबर को जब संयोग से महिला का मोबाइल कार में गिर गया तो उसे ढूंढने के दौरान उसे जीपीसी एस20 पोर्टेबल ट्रैकर के बारे में पता चला। इसके बाद उसने पुलिस में शिकायत दर्ज कराई है।

डॉक्टर ने अपनी शिकायत में कहा है, ‘मैं अपनी कार में एक मरीज का इंतजार कर रही थी और अपने फोन को गियरबॉक्स के पास रखने की कोशिश कर रही थी। इस दौरान वह मेरे हाथ से फिल गया।’ महिला ने दावा किया है कि मोबाइल फोन ढूंढने के दौरान उसे अपनी कार में एख काले रंग का बॉक्स मिला। डॉक्टर ने बताया, ‘मैं हैरान थी क्योंकि मैंने कभी भी अपनी कार में इस तरह का कोई बॉक्स नहीं लगाया था। जिज्ञासा के तहत मैंने बॉक्स को खींचा और पाया कि उसके अंदर एक पोर्टेबल ट्रैकर पड़ा हुआ था।’

डॉक्टर ने दावा किया है कि उसने डिवाइस की तस्वीर खींचकर अपने भाई को भेजी और उसके कहे मुताबिक डिवाइस को खोलने में कामयाब हुई। महिला ने अपनी शिकायत में कहा है कि उसकी प्राइवेसी का उल्लंघन हुआ है। उसने कहा है, ‘मुझे डिवाइस के भीतर एक सिम कार्ड मिला। ऐसा लगता है कि मेरे मूवमेंट और लोकेशन को रिकॉर्ड कर पूरी सूचना किसी अन्य डिवाइस पर भेजी गई।’

डॉक्टर ने अपनी शिकायत में कहा है कि उसका पति से विवाद चल रहा है और उसी ने कार क्लीनर के साथ मिलकर उनकी कार में ट्रैकिंग डिवाइस फिट किया है। पति पर शक की वजह यह है कि कार की चाबी घर में कहां रहती है, यह डॉक्टर के अलावा बस उसके पति को ही पता है।

महिला की शिकायत के आधार पर सेक्टर 56 पुलिस स्टेशन में पति के खिलाफ केस दर्ज कर लिया गया है। पुलिस ने इंडियन पेनल कोड सेक्शन 354 D (पीछा करना), 354 सी (छिपकर देखना), 506 (आपराधिक धमकी) और आईटी ऐक्ट की धारा 67 के तहत केस दर्ज किया है।

सेक्टर 56 पुलिस स्टेशन के एसएचओ अमित कुमार ने बताया, ‘हम मामले की जांच कर रहे हैं और यह पता लगाने की कोशिश कर रहे हैं कि कार में किसने ट्रैकर डिवाइस फिट की या किसके इशारे पर यह किया गया, इसके पीछे मकसद क्या था।’ अभी तक इस मामले में कोई गिरफ्तारी नहीं हुई है।