जेब से गोल्ड मेडल निकाल नीरज बोले- ये पूरे इंडिया का है

नई दिल्ली। तोक्यो ओलिंपिक से मेडल विजेता भारतीय खिलाड़ियों की वापसी हो गई है। भारत वापसी के बाद सभी खिलाड़ियों का शानदार स्वागत किया। इस अवसर पर पदक विजेताओं और अच्छा प्रदर्शन करने वाले खिलाड़ियों के सम्मान समारोह का आयोजन दिल्ली के अशोक होटल में किया गया।

तोक्यो ओलिंपिक में स्वर्ण पदक जीतने वाले नीरज चोपड़ा, रजत पदक जीतने वाले रवि दहिया, कांस्य पदक जीतने वाले बजरंग पुनिया और भारतीय हॉकी टीम का स्वदेश वापसी पर भव्य स्वागत किया गया। इस कार्यक्रम में खेल मंत्री अनुराग ठाकुर, पूर्व खेल मंत्री किरण रिजिजू, खेल राज्य मंत्री निसिथ प्रमाणिक के अलावा विभिन्न खेल संगठनों के कई पदाधिकारी भी मौजूद रहे। कार्यक्रम के लिए होटल की लॉबी को फूलों से सजाया गया था।

नीरज चोपड़ा ने कार्यक्रम में कहा, ‘समर्थन के लिए सभी का शुक्रिया। यह मेडल मेरा नहीं पूरे इंडिया का है। जब से मेडल जीता है, मैं ठीक से सो नहीं पाया, खा नहीं पाया, लेकिन जब मेडल निकला देखता हूं तो लगता है कि सब ठीक है, कोई दिक्कत नहीं।’ उन्होंने आगे कहा, ‘मुझे लगा कि ये मेरे लाइफ का सबसे तगड़ा मौका है, मैं कभी नहीं छोड़ूंगा, अपने प्रतिद्वंद्वी को देखकर घबराना नहीं चाहिए। मुझे दूसरा थ्रो फेंककर अंदाजा लग गया था कि यह अच्छा गया है। आप सब की दुआएं थी। बहुत अच्छा लग रहा है। आगे और मेहनत करूंगा। मेहनत करके आगे और भी मेडल जीतूंगा’

इससे पहले खिलाड़ियों के स्वागत में बड़ी संख्या में फैन्स एयरपोर्ट पर जमे थे। बाद में खिलाड़ियों को दिल्ली के अशोक होटल ले जाया गया, जहां उनके लिए सम्मान समारोह का आयोजन किया गया है। अशोक होटल में भारतीय महिला और पुरुष हॉकी टीम ने केक काटकर ओलिंपिक में अच्छे प्रदर्शन का जश्न मनाया। वहीं पहलवान रवि दहिया, बजरंग पुनिया समेत अन्य खिलाड़ी भी अपने समर्थकों के काफिले के साथ अशोक होटल पहुंचे।

इस अवसर पर खेल मंत्री अनुराग ठाकुर ने कहा, ‘ये शाम ओलंपिक में भारत का नाम बढ़ाने वाले खिलाड़ियों की शाम है। मैं सभी पदक विजेताओं को 135 करोड़ लोगों की तरफ़ से बधाई देता हूं। नीरज चोपड़ा आपने मेडल ही नहीं दिल भी जीता है।’ उन्होंने आगे कहा, ‘नीरज चोपड़ा, बजरंग पुनिया, लवलीना से लेकर अन्य खिलाड़ी सभी हमारे नए हीरों है। हम यह सुनिश्चित करेंगे कि उन्हें कोई हर तरह की सुविधा दी जाए।’

गौरतलब है कि तोक्यो ओलिंपिक में भारतीय खिलाड़ियों ने 1 गोल्ड, 2 रजत समेत कुल 7 पदक जीते हैं। इसके अलावा भी कई खिलाड़ियों ने अच्छा प्रदर्शन किया, लेकिन आखिरी मौके पर पदक से चूक गए थे।