खूब पिए हल्दी की चाय, खत्म हो जाएगा सारा मोटापा

हल्दी का उपयोग भारतीय व्यंजनों में एक विशेष मसाले के रूप में किया जाता है, इसलिए यह आपको लगभग हर घर में मिल जाएगी। हल्दी न सिर्फ खाने को बेहतर रंग और स्वाद देती है, बल्कि हमारी सेहत के लिए भी काफी फायदेमंद होती है। हल्दी का उपयोग आयुर्वेद में वर्षों से एक जड़ी बूटी के रूप में किया जाता रहा है। हल्दी में एंटी-बैक्टीरियल और एंटी-इंफ्लेमेटरी गुण होते हैं। इस वजह से इसका सेवन हमें कई तरह के संक्रामक रोगों से बचाता है, साथ ही दर्द या सूजन होने पर इसे कम करता है।

इसके अलावा हल्दी में वात, पित्त और कफ को नियंत्रित करने के गुण होते हैं। हल्दी हमारे शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता को भी बढ़ाती है। यही वजह है कि कोरोना के समय में हल्दी का ज्यादा से ज्यादा इस्तेमाल किया जा रहा है। लेकिन क्या आप जानते हैं कि हल्दी आपके वजन को कम करने में भी मददगार है। जी हां अगर आप चाय की जगह हल्दी वाली चाय पीना शुरू कर दें तो आप आसानी से अपना वजन कम कर सकते हैं। जानिए हल्दी की चाय बनाने की विधि।

सामग्री: आधा चम्मच हल्दी, डेढ़ कप पानी, चुटकी भर काली मिर्च, 5-6 तुलसी के पत्ते, कद्दूकस किया हुआ अदरक का एक छोटा टुकड़ा, स्वादानुसार शहद और नींबू के रस की कुछ बूंदें

चाय बनाने के लिए सबसे पहले पैन में पानी डाल कर उबाल आने दें। पानी में उबाल आने के बाद इसमें अदरक, तुलसी के पत्ते और काली मिर्च पाउडर डाल कर थोड़ा और उबाल लें और हल्दी को उबालते समय ही डालें. जब पानी में उबाल आ जाए और एक कप रह जाए तो इसे कप में छान लें और इसमें नींबू और शहद मिलाकर चाय की चुस्की लें।

आप कितनी बार चाय पीते हैं
आप इस चाय को दिन में एक या दो बार पी सकते हैं। बेहतर होगा कि आप इसे सुबह खाली पेट पिएं और उसके बाद कुछ देर तक कुछ न खाएं। दूसरी बार आप शाम को चाय पी सकते हैं।

सावधान
1. इसका अधिक सेवन करने से कब्ज और दस्त जैसी पेट संबंधी कुछ समस्याएं हो सकती हैं। इसके अलावा सीने में जकड़न, त्वचा पर रैशेज, एलर्जी और त्वचा में सूजन की समस्या भी हो सकती है।

2. इसके अलावा अधिक हल्दी वाली चाय पीने से भी लीवर टॉक्सिसिटी हो सकती है।

3. हल्दी गर्म होती है, इसलिए गर्भवती महिलाओं को इसका सेवन किसी विशेषज्ञ से सलाह लेकर ही करना चाहिए। वहीं अगर आप किसी बीमारी से ग्रसित हैं तो भी बिना सलाह के इसका सेवन न करें।