कुछ महानुभाव कहते हैं कि मोदी ने क्या किया? दिन रात विरोध, भाषण सुनने के बाद टूट पड़ेंगे…

लखनऊ। देश को मिली स्वतंत्रता के 75 वर्ष पूरे होने पर आयोजित आजादी का अमृत महोत्सव कार्यक्रम में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ पहुंचे हैं। उन्होंने न्यू अर्बन इंडिया कॉन्क्लेव का दौरा किया। यह कार्यक्रम विभूति खंड स्थित इंदिरा गांधी प्रतिष्ठान में हो रहा है। इस दौरान पीएम मोदी ने पीएम आवास योजना के लाभार्थियों से संवाद किया।

लखनऊ में पीएम मोदी ने कहा, ‘हमारे यहां कुछ महानुभाव कहते हैं कि मोदी ने क्या किया? आज पहली बार मैं ऐसी बात बताना चाहता हूं जिसके बाद बड़े-बड़े विरोधी, जो दिन रात हमारा विरोध करने में ही अपनी ऊर्जा खपाते हैं, वो मेरा ये भाषण सुनने के बाद टूट पड़ेंगे। 2014 के बाद से हमारी सरकार ने पीएम आवास योजना के तहत शहरों में 1 करोड़ 13 लाख से ज्यादा घरों के निर्माण की मंजूरी दी है। इसमें से 50 लाख से ज्यादा घर बनाकर, उन्हें गरीबों को सौंपा भी जा चुका है।’

PM मोदी ने इस दौरान प्रधानमंत्री आवास योजना के 75 हजार लाभार्थियों को डिजिटली चाभी प्रदान किया। उन्होंने लाभार्थी आगरा निवासी विमलेश से ऑनलाइन संवाद किया। नए मकान के लिए बधाई देते हुए बच्चों की पढ़ाई पर फोकस करने को कहा। साथ ही उन्होंने कहा कि मकान के बाद खर्चा बढ़ेगा तो अखबार में छपेगा कि मोदी ने महंगाई और खर्चा बढ़ा दिया।

पीएम मोदी ने संबोधित करते हुए कहा, ‘मेरे साथी जो झुग्गी झोपड़ी में जीवन जीते थे, जिनके पास छत नहीं थी। ऐसे तीन करोड़ परिवार को इस कार्यकाल में लखपित बनने का अवसर मिल गया है। इस देश मोटा मोटा अंदाज करें तो 25-30 करोड़ परिवार है। ऐसे में 3 करोड़ परिवारों को लखपति बनना है। प्रधानमंत्री आवास योजना के तहत देश में जो 3 करोड़ का घर बने हैं, उनका अंदाजा लगा लीजिए। वे अब लखपति है।’

प्रधानमंत्री ने कहा, ‘मुझे वे दिन भी याद आते हैं, जब तमाम प्रयासों के बावजूद घरों के निर्माण में आगे नहीं बढ़ रहा था। आज लखनऊ में ही, जब मैं यहां हूं, तो मुझे यह बात विस्तार से बतानी चाहिए। हमारी अर्बन प्लानिंग कैसे राजनीति का शिकार हो जाती है। यह समझने के लिए यूपी के लोगों को जाना जरूरी है। गरीबों के घर के लिए केंद्र पैसा दे रहा था, लेकिन 2017 से पहले यूपी में जो सरकार थी वह गरीबों के लिए घर बनवाना ही नहीं चाहती थी। गरीबों के लिए घर बनवाओं इसके लिए पहले हमलें जो सरकार में थे, उनसे मिन्नतें करनी पड़ती थी।’

आगरा की लाभार्थी विमलेश से बात करते हुए पीएम मोदी ने पूछा कि नया घर बनने से क्या बदलाव आया है? इस पर विमलेश ने कहा कि पहले जब मकान कच्चा था तो रिश्तेदार नहीं आते थे, अब जब मकान बन गया है तो रिश्तेदार भी खूब आने लगे हैं। इस पर पीएम मोदी ने कहा, फिर तो आपका खर्चा बढ़ गया होगा। पीएम मोदी ने कहा कि लोग कहेंगे कि मोदी ने घर बनवा दिया, रिश्तेदार ज्यादा आने लगे और गरीब का खर्चा बढ़ा दिया।

पीएम ने इसके साथ ही कानपुर की लाभार्थी रामजानकी और ललितपुर की बबीता से भी बात की। बबिता ने कहा- मैं घर पर रहती हूं। अलग-अलग तरह का खाना बनाती हूं। इस पर पीएम मोदी ने कहा कि आप बताइए तो सही कि क्या-क्या बनाती हैं, मैं खाने नहीं आ जाऊंगा। उन्होंने इसके बाद स्मार्ट सिटी प्रॉजेक्ट के साथ ही लखनऊ स्थित भीमराव आंबेडकर यूनिवर्सिटी में अटल बिहारी वाजपेयी चेयर का लोकार्पण भी किया।

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने इस दौरान कहा, ‘पिछली सरकार में 25 हजार आबादी वाले कस्बों को नगर पंचायत का दर्जा देने के साथ नगर सीमाओं का विस्तार करने की मांग थी। 2017 के पहले 654 नगरीय निकाय थे जो आज 734 गए हैं, जिससे जनता को बुनियादी सुविधाएं मिल रही हैं।’

पीएम मोदी के साथ इस दौरान रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह, केंद्रीय शहरी विकास मंत्री हरदीप सिंह पुरी, केंद्रीय राज्य मंत्री कौशल किशोर, राज्यपाल आनंदी बेन पटेल और मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ मौजूद हैं। पीएम ने नगरीय विकास मंत्रालय की तरफ से लगी प्रदर्शनी का अवलोकन भी किया।

केंद्रीय शहरी विकास मंत्री हरदीप सिंह पुरी ने कहा कि जून 2015 के बाद शहरों के विकास के लिए भारी निवेश किया गया है। यूपी में अर्बन कनेक्टिविटी के लिए हवाई अड्डों के लिए दो हजार करोड़ रुपये आवंटित होंगे। वहीं लखनऊ से सांसद और रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने पीएम मोदी का स्वागत करते हुए सरकार की योजनाओं और उपलब्धियों का जिक्र किया। उन्होंने कहा कि पीएम का न्यू इंडिया का सपना साकार होगा।