‘किसान संसद’ पर केंद्रीय कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर बोले- संसद तो एक है जिसे…

नई दिल्ली। राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली के जंतर मंतर पर शनिवार को ‘किसान संसद’ का तीसरा दिन रहा. इस बीच ‘किसान संसद’ पर केंद्रीय कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर की प्रतिक्रिया सामने आई है. कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर ने कहा कि संसद तो एक ही होती है जिसे जनता चुनकर भेजती है. उन्होंने एक बार फिर कहा कि किसानों को आंदोलन का रास्ता छोड़कर बातचीत का रास्ता अपनाना चाहिए.

केंद्रीय कृषि मंत्री ने कहा, “संसद तो एक ही होती है, जिसे जनता चुनकर भेजती है. जो यूनियन के लोग ऐसी बातें कर रहे हैं और आंदोलन कर रहे हैं वह निरर्थक है. हमने कई बार उनसे कहा कि आंदोलन का रास्ता छोड़कर वार्ता का रास्ता अपनाना चाहिए.”

मेरठ में कल किसान निकालेंगे ट्रैक्टर मार्च

कल रविवार मेरठ में सुबह 7 बजे किसान टैक्टर मार्च निकालेंगे और मेरठ से गाजीपुर बॉर्डर के लिए रवाना होंगे. जानकारी के मुताबिक, कम से कम 200 ट्रैक्टर कल गाज़ीपुर बॉर्डर पहुंचेगे. पश्चिमी उत्तर प्रदेश के बिजनौर से सौ से अधिक टैक्टरों पर सवार होकर किसान शुक्रवार शाम ही गाजीपुर बॉर्डर के लिए निकले थे. किसान शुक्रवार रात्रि विश्राम मेरठ के बहसूमा में किया और कल सुबह 7 बजे किसानों का ट्रैक्टर मार्च गाजीपुर के लिए रवाना होगा.

वहीं भारतीय किसान यूनियन के राष्ट्रीय प्रवक्ता राकेश टिकैत ने सभी किसानों से एकजुट होने का आह्वान किया. उन्होंने ट्वीट करते हुए कहा, “भारत की आत्मा को बचाओ और सभी जुट जाओ“ किसान बचेगा, तभी भारत की आत्मा और आजादी बचेगी.” वहीं अपने एक और ट्वीट में उन्होंने कहा, “किसान संसद से किसानों ने गूंगी -बहरी सरकार को जगाने का काम किया है. किसान संसद चलाना भी जानता है और अनदेखी करने वालों को गांव में सबक सिखाना भी जानता है. भुलावे में कोई न रहे.”