किसान महापंचायत को लेकर सबसे बड़ी खबर, पूरे बेस्ट यूपी को…

लखनऊ: उत्तर प्रदेश में 5 सितंबर को मुजफ्फरनगर के सिसौली में होने वाली किसान महापंचायत में पांच लाख किसानों के पहुंचने का दावा किसान संगठनों की तरफ से किया जा रहा है। बताया जा रहा है कि देशभर के 500 किसान संगठनों के प्रतिनिधि और किसान सिसौली में पहुंचेंगे। किसान पंचायत के बहाने पश्चिमी यूपी की सियासत गरमाने की प्लानिंग भारतीय किसान यूनियन के नेता राकेश टिकैत की तरफ से की जा रही है। इस महापंचायत के अंदरखाने कई राजनीतिक दलों का भी समर्थन प्राप्त है। किसानों के जमावड़े को देखते हुए लखनऊ से लेकर मुजफ्फरनगर तक सरकार और प्रशासन भी चौकस हो गया है। राजमार्गों की निगरानी में हजारों पुलिसकर्मियों की तैनाती की गई है। इसके साथ ही ड्रोन से भी बाहर से जिले में आने वालों पर नजर रखी जाएगी।

पुलिस के आला अधिकारियों की माने तो सिसौली में आयोजित किसान महापंचायत से पहले, प्रशासन ने प्रांतीय सशस्त्र कांस्टेबुलरी (पीएसी) की आठ कंपनियों को तैनात किया है, जिसमें एक हजार से अधिक कर्मियों और मेरठ क्षेत्र के सभी जिलों के लगभग एक हजार से अधिक पुलिसकर्मी शामिल हैं।

वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक (मुजफ्फरनगर) अभिषेक यादव ने कहा कि, “सहारनपुर, मेरठ, गाजियाबाद, शामली और बागपत जिलों के अलावा मुजफ्फरनगर के करीब एक हजार पुलिसकर्मी 5 सितंबर को कार्यक्रम स्थल की ओर जाने वाले राजमार्गों और लिंक रोड की निगरानी करेंगे।” महापंचायत के दौरान कुछ भी अप्रिय न हो, यह सुनिश्चित करने के लिए डिजिटल कैमरों से लैस विशेष ड्रोन हर सेकेंड घटना की लाइव तस्वीरें भेजेंगे। सुरक्षा के लिहाज से मुजफ्फरनगर के सभी चौराहों पर सीसीटीवी लगाए जाएंगे।”

भारतीय किसान संघ (बीकेयू) द्वारा बुलाई गई और केंद्र के नए कृषि कानूनों के खिलाफ कई संगठनों द्वारा समर्थित किसान महापंचायत मुजफ्फरनगर में राज्य सरकार के इंटर कॉलेज के मैदान में आयोजित की जाएगी। आयोजकों ने दावा किया है कि यह आयोजन एक स्थान पर किसानों की अब तक की सबसे बड़ी सभा होगी। बताया जा रहा है कि “उत्तर प्रदेश और उत्तराखंड विधानसभा चुनावों में भाजपा की हार सुनिश्चित करने के लिए पश्चिम बंगाल मॉडल को पुनर्जीवित करने की रणनीति तैयार करेंगे”।

भारतीय किसान संघ के मीडिया प्रभारी धर्मेंद्र मलिक ने बताया कि, “नरेंद्र मोदी सरकार तीन कठोर कृषि कानूनों के बारे में हमारी शिकायतों को सुनने के लिए तैयार नहीं है, जो किसानों के लिए मौत की घंटी बजाने के लिए तैयार हैं और केवल कुछ चुनिंदा पूंजीपतियों को लाभ पहुंचाने के लिए बनाए गए हैं। किसानों के लिए मुजफ्फरनगर से भाजपा के लिए ठोस कदम उठाने का समय समय आ गया है क्योंकि यहीं से भाजपा ने राजनीतिक फसल काटी और केंद्र और राज्य में सांप्रदायिकता के बीज बोकर सत्ता हथिया ली।”

स्थानीय खापों और कई किसान संगठनों को शामिल करने की कोशिश
सभी स्थानीय खापों और किसान संघों के अलावा, सभी गैर-भाजपा दलों ने महापंचायत को अपना समर्थन दिया है। आरएलडी की मुजफ्फरनगर इकाई के प्रमुख प्रभात तोमर ने कहा कि वह 4 से 5 सितंबर तक मुजफ्फरनगर में कम से कम 10,000 किसानों के ठहरने की व्यवस्था करेगा। हम उम्मीद कर रहे हैं कि यूपी, हरियाणा और पंजाब से बड़ी संख्या में असंतुष्ट किसान, जो तीन कृषि कानूनों को रद्द करने के लिए लड़ रहे हैं और वो लोग मुजफ्फरनगर में इकट्ठा होंगे। हमने यह सुनिश्चित करने के लिए उनकी सेवा करने का फैसला किया है कि उन्हें महापंचायत में भाग लेने के लिए परेशानी का सामना न करना पड़े।