कितनी होगी तबाही अगर धरती एक सेकेंड के लिए कर दे घूमना बंद? वैज्ञानिकों ने बताया

नई दिल्ली: ये हम सब लोग जानते हैं कि पृथ्वी अपनी धुरी पर घूमती रहती है और सूरज का परिक्रमा करती है। हम ये भी जानते हैं कि हमारी धरती हर 23 घंटे, 56 मिनट और 4.1 सेकंड में अपनी धुरी पर एक चक्कर पूरा कर लेती है। पृथ्वी के इसी चक्कर काटने की वजह से धरती के एक हिस्से में दिन और एक हिस्से में रात होती है। लेकिन, क्या आपने सोचा है, कि अगर हमारी पृथ्वी एक सेकंड के लिए घूमना बंद कर दे तो क्या होगा? अगर धरती एक सेकंड के लिए भी रूक जाए तो क्या होगा, आपने कभी सोचा है… अमेरिका के मशहूर वैज्ञानिक और एस्ट्रोफिजिस्ट ने अपनी रिसर्च के आधार पर बताया है कि अगर पृथ्वी एक सेकंड के लिए घूमना बंद कर दे तो क्या होगा।

अमेरिका के एक मशहूर वैज्ञानक और एस्ट्रोफिजिस्ट हैं, नाम है नील टायसन। उन्होंने पृथ्वी के घुर्णन गति को लेकर बेहद चौंकाने वाले और हैरतअंगेज खुलासे किए हैं। नील टायसन ने कहा कि अगर हमारी पृथ्वी एक सेकंड के लिए भी अपनी धुरी पर घूमना बंद कर दे पूरी दुनिया की स्थिति देखते ही देखते विनाशकारी हो जाएगी। उन्होंने कहा कि एक सेकंड सोचना बहुत आसान होता है और हम कहते हैं कि बस एक सेकंड…लेकिन अगर हमारी पृथ्वी सिर्फ एक सेकंड के लिए ही रूक जाए तो इंसानी जीवन धरती से पूरी तरह खत्म हो जाएगीा। उन्होंन कहा कि पृथ्वी पर हालात इतने भयावह हो जाएंगे, जिसकी कल्पना भी इंसान नहीं कर सकता है।

पृथ्वी लगातार 800 मील प्रति घंटे की रफ्तार से अपनी धुरी पर घूमती रहती है और ये घुर्णन 24 घंटे जारी रहती है। पृथ्वी पर मनुष्य और अन्य जीवित प्राणी घूर्णन के प्रभाव को महसूस नहीं करते हैं क्योंकि वे ग्रह के साथ घूम रहे हैं। चूंकि पृथ्वी पर सब कुछ ग्रह के साथ घूम रहा है, इसलिए अगर इसका घूर्णन अचानक बंद हो जाए तो यह बहुत विनाशकारी होगा। अमेरिकी वैज्ञानिक, टायसन ने टेलीविजन और रेडियो इंटरव्यू के दौरान होस्ट लैरी किंग के साथ इस कल्पना को काफी ज्यादा विनाशकारी बताया है। उन्होंने कहा कि पृथ्वी के साथ साथ धरती पर मौजूद हर चीज में उतना ही गति होता है और अगर पृथ्वी एक सेकंड के लिए घूमना बंद करती है, जो हर सामान, हर जीव, हर चीज, पृथ्वी के घूमने की दिशा के विपरीत दिशा में फेंक दिया जाएगा। यानि, हर चीज अपने पीछे फेंक दिया जाएगा।

वैज्ञानिक टायसन ने कहा कि पृथ्वी एक सेकंड के लिए अगर घूमना बंद करती है तो धरती पर मौजूद पीछे की तरफ फेंक दिया जाएगा और वो अपने पीछे मौजूद किसी स्थिर सामान से टकराएगा। कोई इंसान अपनी खिड़की से बाहर फेंक दिया जाएगा तो कोई किसी ऊंची इमारत से फेंक दिया जाएगा। ये कुछ ऐसे होगा, जैसे किसी कार का एक्सिडेंट हो गया हो और कार का ड्राइवर कार की खिड़की से बाहर फेंक दिया गया हो। उन्होंने कहा कि, चूंकी कार और पृथ्वी की रफ्तार और आकार में अंतर है, लिहाजा आप कल्पना कर सकते हैं कि धरती की स्थिति कैसी हो सकती है। उन्होंने कहा है कि सिर्फ एक सेकेंड के लिए भी अगर धरती घूमना बंद कर देती है तो धरती पर मौजूद हर जीवनधारियों की मौत हो जाएगी। उन्होंने कहा कि शायद धरती पर कोई जिंदा मौजूद नहीं रहेगा।

आपको बता दें कि अमेरिकन वैज्ञानिक टायसन अपने चौंकाने वाले ट्वीट्स और अनोखा जानकारियां देने के लिए अकसर चर्चा में रहते हैं। एक ट्वीट में उन्होंने कहा था कि अमेजन के मालिक जेफ बेजोस की जितनी संपत्ति है, उससे 180 बार पृथ्वी का चक्कर लगाया जा सकता हगै। आपको बता दें कि उस वक्त जेफ बेजोस के पास करीब 200 बिलियन डॉलर्स की संपत्ति होने की जानकारी आई थी। इसके साथ ही उन्होंने कहा था कि जेफ बेजोस की 200 बिलियन डॉलर की संपत्ति से 30 बार पृथ्वी से चांद पर आया जाया जा सकता है।

कुछ दिन पहले अमेरिकी वैज्ञानिक ने दावा किया था मशहूर कारोबारी रिचर्ड ब्रैनसन ने स्पेस की यात्रा नहीं की थी। उन्होंने कहा था कि रिचर्ड ब्रैनसन सिर्फ सब-ऑर्बिटल में गये थे। इसके साथ ही वैज्ञानिक टायसन ने कहा था कि नासा ने करीब 60 साल पहले ही एलन शेपर्ड नाम के एक यात्री को उस जगह पर भेज चुका है, जहां ब्रैनसन गये थे और वो सब-ऑर्बिटल है। हालांकि, टायसन ने ये भी कहा कि अगर आप उसे स्पेस कहना चाहते हैं तो मुझे कोई दिक्कत नहीं है। इसके साथ ही टायसन ने ये भी कहा है कि जहां रिचर्ड ब्रैनसन पहुंचे थे, वहां आम इंसान नहीं पहुंच सकते हैं और वो जहां पर गये थे, वहां से पृथ्वी का एक काफी अच्छा व्यू मिल सकता है, लेकिन उसे अगर आप स्पेस कहेंगे तो वो आपकी गलती होगी।

आपको बता दें कि नील टायसन बचपन से ही फिजिक्स पढ़ने में काफी उत्साहित रहते थए और सिर्फ 9 साल की उम्र में जब वो अमेरिकन म्यूजियम ऑफ नैचुरल हिस्ट्री गये थे, तब से खगोल विज्ञान के बारे में जानने की उनकी दिलचस्पी काफी बढ़ गई थी। नील टायसन ने 1980 में हार्वर्ड यूनिवर्सिटी से ग्रेजुएशन की डिग्री हासिल की और फिर 1983 में उन्होंने टेक्सास यूनिवर्सिटी से एस्ट्रोनॉमी में मास्टर्स की डिग्री हासिल की।