कब है दीपावली? जानिए इस बार कौन- सा बन रहा है शुभ मुहूर्त…

दिवाली 2021: हिंदू धर्म में दिवाली के त्योहार का खास महत्व है. हिंदू कैलेंडर और पौराणिक कथाओं के अनुसार, दिवाली कार्तिक महीने में कृष्ण पक्ष की अमावस्या के दिन मनाई जाती है। इस साल कार्तिक अमावस्या 4 नवंबर 2021 को है। लोग हर साल दिवाली (Diwali 2021) के त्योहार का बेसब्री से इंतजार करते हैं।

दशहरा 2021 खत्म होते ही लोगों ने दिवाली की तैयारी शुरू कर दी है। दिवाली का त्योहार दशहरा के 20 दिन बाद मनाया जाता है। दीपावली का पर्व लक्ष्मी जी को समर्पित है। इस दिन देवी लक्ष्मी और भगवान गणेश की पूजा की जाती है। ऐसे में लक्ष्मी पूजा (Diwali Shubh Muhurt) के शुभ मुहूर्त के बारे में जानना बेहद जरूरी है.

मां लक्ष्मी और भगवान गणेश की पूजा का समय
कैलेंडर में हिंदू कैलेंडर दिवाली मुहूर्त के अनुसार, देवी लक्ष्मी और भगवान गणेश की पूजा का समय शाम 06.09 बजे से रात 08.20 बजे तक माना जाता है। पूजा की अवधि- 1 घंटा 55 मिनट। वहीं प्रदोष काल- दोपहर 17:34:09 से 20:10:27 बजे तक, जबकि वृषभ काल- 18:10:29 बजे से 20:06:20 बजे तक माना जा रहा है.

दीपावली पर निशिता काल मुहूर्त
निशिता काल – 23:39 बजे से 5 नवंबर दोपहर 00:31 बजे तक
सिंह लग्न – 5 नवंबर दोपहर 00:39 बजे से 02:56 पूर्वाह्न तक

दीपावली शुभ चौघड़िया मुहूर्त
सुबह का मुहूर्त: 06:34:53 से 07:57:17
सुबह का मुहूर्त: सुबह 10:42:06 से 14:49:20 बजे तक
शाम का मुहूर्त: 16:11:45 अपराह्न से 20:49:31 अपराह्न
रात्री मुहूर्त: 24:04:53 अपराह्न से 01:42:34 अपराह्न

एक ही राशि में होंगे चार ग्रह
हिंदू पंचांग के अनुसार इस साल दीवाली पर सूर्य, मंगल, बुध और चंद्रमा एक ही राशि में विराजमान होंगे। माना जाता है कि इन चारों ग्रहों का तुला राशि में रहना शुभ फल देगा। आपको बता दें कि तिश शास्त्र में सूर्य को ग्रहों का राजा, मंगल को ग्रहों का स्वामी, बुध को ग्रहों का राजकुमार और चंद्रमा को मन का कारक माना गया है।

लक्ष्मी पूजा की विधि
दिवाली की सफाई बहुत जरूरी है। अपने घर के कोने-कोने की सफाई करने के बाद गंगाजल का छिड़काव करें।
लकड़ी की चौकी पर लाल सूती कपड़ा बिछाएं और बीच में मुट्ठी भर अनाज रखें।
कलश (चांदी/कांस्य का बर्तन) को अनाज के बीच में रखें।
कलश में पानी भरकर उसमें एक सुपारी, गेंदा का फूल, एक सिक्का और कुछ चावल के दाने डाल दें। कलश पर 5 आम के पत्ते गोलाकार आकार में रखें।
केंद्र में देवी लक्ष्मी की मूर्ति और कलश के दाहिनी ओर (दक्षिण-पश्चिम दिशा) में भगवान गणेश की मूर्ति रखें।
एक छोटी प्लेट लें और चावल के दानों का एक छोटा पहाड़ बनाएं, हल्दी से कमल का फूल बनाएं, कुछ सिक्के डालकर मूर्ति के सामने रखें।
अब देवी लक्ष्मी और भगवान गणेश का तिलक करें और दीपक जलाएं। कलश पर भी तिलक लगाएं।
अब भगवान गणेश और लक्ष्मी को फूल चढ़ाएं।
मां को नारियल, सुपारी, सुपारी चढ़ाएं।
देवी की मूर्ति के सामने कुछ फूल और सिक्के रखें।
थाली में दीपक लेकर पूजा की घंटी बजाएं और लक्ष्मी जी की आरती करें।