एक बयान जिसने लगा दी लखीमपुर खीरी में आग, जानें बवाल की असली वजह

लखीमपुर खीरी। किसानों का गुस्सा देश के सबसे बड़े राज्य उत्तर प्रदेश में भी उबाल मारने लगा है. लखीमपुर खीरी में आज किसानों ने जमकर बवाल काटा है. गाड़ियों को जलाया गया है, काले झंडे दिखाए गए हैं और जमकर राजनीति हुई है. इस कार्यक्रम में डिप्टी सीएम केशव प्रसाद मौर्य और केंद्रीय गृह राज्यमंत्री अजय मिश्रा जाने वाले थे. प्लान था कि केशव प्रसाद मौर्य तिकुनिया में आयोजित होने वाले कुश्ती कार्यक्रम में हिस्सा लेंगे.

लेकिन वहां पहुंचने से पहले ही किसानों का प्रदर्शन शुरू हो गया. किसानों द्वारा काले झंडे तक दिखाए गए. आरोप भी लग गया कि केंद्रीय गृह राज्यमंत्री अजय मिश्रा के बेटे अभिषेक मिश्रा की गाड़ी से टक्कर लगने से दो से तीन किसानों की मौत हो गई. उस वजह से किसानों का गुस्सा और ज्यादा भड़क गया और कई गाड़ियों को आग के हवाले कर दिया गया.

किस बात पर नाराजगी?

अब जो बवाल किसानों संग आज देखा गया, असल में इसकी नींव पिछले महीने 26 सितंबर को डाल दी गई थी जब केंद्रीय राज्यमंत्री अजय मिश्रा ने कार्यक्रम के दौरान किसानों को लेकर विवादित बयान दे दिया. दरअसल 26 सितंबर को अजय मिश्रा एक जनसभा को संबोधित करने गए थे. लेकिन वहां पर पहुंचने से पहले उन्हें किसानों का विरोध झेलना पड़ा. उनके काफिले को काले झंडे भी दिखा दिए गए.

उससे नाराज होकर अजय मिश्रा ने रैली को संबोधित करते हुए किसानों पर जमकर निशाना साधा. उनका गुस्सा इतना ज्यादा रहा कि उन्होंने किसानों को धमकी तक दे डाली. संबोधन में अजय मिश्रा ने कहा था कि अगर मैं तब अपनी गाड़ी से उतर जाता तो इन्हें भागने का मौका भी नहीं मिलता. ये कृषि कानून का विरोध तो सिर्फ 10-15 लोग कर रहे हैं. इसके बाद राज्यमंत्री ने बोल दिया कि सुधर जाओ, वरना हम सुधार देंगे. हमे ऐसा करने में सिर्फ दो मिनट लगेंगे. यहां के लोग जानते हैं कि मैं किसी चुनौती से भागता नहीं हूं.

आज क्या हुआ है?

अब अजय मिश्रा के इसी विवादित बयान से किसान आहत हो गए थे और उनकी तरफ से विरोध शुरू हो गया था. अब उस विरोध का असल असर आज यानी की रविवार को तब देखने को मिल गया जब डिप्टी सीएम केशव प्रसाद मौर्य लखीमपुर खीरी पहुंचे. किसानों की नाराजगी इसलिए भी ज्यादा बढ़ गई क्योंकि उनके मुताबिक कुछ किसानों को गाड़ी से उड़ा मार दिया गया. आरोप बीजेपी नेता अजय मिश्रा के बेटे अभिषेक मिश्रा पर लगाया गया. अभी इलाके में भारी फोर्स तैनात है और तनाव को कम करने का प्रयास है.