अल्लाह से दुआ है कि अमेरिकी फौज अफगानिस्तान से जल्द निकले और हम हिंदुओं का कत्लेआम करें.. देखें वीडियो

काबुल: अफगानिस्तान से अमेरिकी फ़ौज हटने के बाद कथित रूप से पाकिस्तानी सहयोग पाकर आतंकी संगठन तालिबान ने एक बार फिर वहाँ अपना वर्चस्व कायम कर लिया है। तालिबानी आतंकियों द्वारा काबुल को कब्जे में लेने के बाद वहाँ के राष्ट्रपति अशरफ गनी और उपराष्ट्रपति अमीरुल्ला सालेह ने अपने कुछ करीबियों के साथ देश से पलायन कर दिया है। वहीं तालिबानी नेता मुल्ला बरादर का कहना है कि उन्होंने खुद नहीं सोचा था कि वे इतनी आसानी से जीत जाएंगे।

बता दें कि बीते दिनों एक रिपोर्ट में बताया गया था कि तालिबानियों को पाकिस्तान का खुला समर्थन है, पाकिस्तान के बिना ये लोग कुछ नहीं कर सकते। हालाँकि, अब एक ऐसी वीडियो सामने आई है, जिससे स्पष्ट हो जाता है कि पाकिस्तानी किस हद तक इंतजार में थे कि अफगानिस्तान से अमेरिकी फ़ौज हटे और वह वहाँ हिंदुओं का कत्लेआम मचाया जाए। इसका एक वीडियो भी सामने आया है, जो पाकिस्तानी बुद्धिजीवी जैद हामिद का है। इस वीडियो में आप साफ़ देख सकते हैं कि जैद किस तरह ऑन टीवी हिंदुओं के लिए जहर उगल रहे हैं और उनके कत्लेआम की बात कर रहे हैं।

वीडियो में ज़ैद कह रहा है कि, ‘मैं अल्लाह से दुआ कर रहा हूँ कि अमेरिकन वहाँ से निकलें और इंडियन्स को वहाँ छोड़कर जाएँ। बहुत अरसा हो गया है कि हमने अफगानिस्तान में हिंदुओं का कत्लेआम नहीं किया। आम तौर पर ये हमेशा ही हुआ करता था, जिस कारण अफगानिस्तान के पहाड़ों का नाम हिंदु कुश रखा गया। हिन्दू कुश यानी हिंदुओं को कत्ल करने वाली जगह। वो जगह जो हिंदुओं को कत्ल करती है। तारीखी तौर पर जब भी हिंदू अफगानिस्तान में दाखिल हुए हैं तो उन्हें जिबह किया गया है। हम दुआ कर रहे हैं अल्लाह से अमेरिकन वहाँ से जाएँ और बनिए (हिन्दुओं) को छोड़ कर जाएँ।’ हालांकि, यह स्पष्ट नहीं हो पाया है कि यह वीडियो किस समय का है। लेकिन इस तरह के बयानों से सवाल यह उठता है कि जो अंतर्राष्ट्रीय समुदाय, भारत को कश्मीर और अल्पसंख्यकों के अधिकार के नाम पर ज्ञान देता रहता है, वो हिन्दुओं को लेकर दी जा रही इन खुली धमकियों पर बहरा क्यों हो जाता है।

काबुल: अफगानिस्तान से अमेरिकी फ़ौज हटने के बाद कथित रूप से पाकिस्तानी सहयोग पाकर आतंकी संगठन तालिबान ने एक बार फिर वहाँ अपना वर्चस्व कायम कर लिया है। तालिबानी आतंकियों द्वारा काबुल को कब्जे में लेने के बाद वहाँ के राष्ट्रपति अशरफ गनी और उपराष्ट्रपति अमीरुल्ला सालेह ने अपने कुछ करीबियों के साथ देश से पलायन कर दिया है। वहीं तालिबानी नेता मुल्ला बरादर का कहना है कि उन्होंने खुद नहीं सोचा था कि वे इतनी आसानी से जीत जाएंगे।

बता दें कि बीते दिनों एक रिपोर्ट में बताया गया था कि तालिबानियों को पाकिस्तान का खुला समर्थन है, पाकिस्तान के बिना ये लोग कुछ नहीं कर सकते। हालाँकि, अब एक ऐसी वीडियो सामने आई है, जिससे स्पष्ट हो जाता है कि पाकिस्तानी किस हद तक इंतजार में थे कि अफगानिस्तान से अमेरिकी फ़ौज हटे और वह वहाँ हिंदुओं का कत्लेआम मचाया जाए। इसका एक वीडियो भी सामने आया है, जो पाकिस्तानी बुद्धिजीवी जैद हामिद का है। इस वीडियो में आप साफ़ देख सकते हैं कि जैद किस तरह ऑन टीवी हिंदुओं के लिए जहर उगल रहे हैं और उनके कत्लेआम की बात कर रहे हैं।

वीडियो में ज़ैद कह रहा है कि, ‘मैं अल्लाह से दुआ कर रहा हूँ कि अमेरिकन वहाँ से निकलें और इंडियन्स को वहाँ छोड़कर जाएँ। बहुत अरसा हो गया है कि हमने अफगानिस्तान में हिंदुओं का कत्लेआम नहीं किया। आम तौर पर ये हमेशा ही हुआ करता था, जिस कारण अफगानिस्तान के पहाड़ों का नाम हिंदु कुश रखा गया। हिन्दू कुश यानी हिंदुओं को कत्ल करने वाली जगह। वो जगह जो हिंदुओं को कत्ल करती है। तारीखी तौर पर जब भी हिंदू अफगानिस्तान में दाखिल हुए हैं तो उन्हें जिबह किया गया है। हम दुआ कर रहे हैं अल्लाह से अमेरिकन वहाँ से जाएँ और बनिए (हिन्दुओं) को छोड़ कर जाएँ।’ हालांकि, यह स्पष्ट नहीं हो पाया है कि यह वीडियो किस समय का है। लेकिन इस तरह के बयानों से सवाल यह उठता है कि जो अंतर्राष्ट्रीय समुदाय, भारत को कश्मीर और अल्पसंख्यकों के अधिकार के नाम पर ज्ञान देता रहता है, वो हिन्दुओं को लेकर दी जा रही इन खुली धमकियों पर बहरा क्यों हो जाता है।