अभी-अभी: आतंकियों पर भारतीय सेना का कहर, टॉप कमांडर समेत 13 की बिछा दी लाशें

श्रीनगर: जम्मू-कश्मीर (Jammu Kashmir) में सिविलियन की टारगेट किलिंग के बाद सुरक्षाबलों ने आतंकियों (Terrorists) के खिलाफ जबरदस्त अभियान छेड़ रखा है. पिछले कुछ दिनों में 9 ऑपरेशन करके 13 आतंकियों का सफाया कर दिया गया है. इनमें से 3 आतंकी पिछले 24 घंटे में श्रीनगर में मारे गए हैं.

पंपोर में मारा गया लश्कर कमांडर

सुरक्षाबलों ने आतंकी संगठन लश्कर-ए-तैयबा के कमांडर उमर मुश्ताक खांडे को पुलवामा जिले के पंपोर (Pampore) इलाके में मारा गया. इस एनकाउंटर में खांडे समेत दो आतंकियों को ठिकाने लगाया गया. आईजी विजय कुमार ने बताया कि उमर मुश्ताक खांडे इस साल की शुरुआत में श्रीनगर जिले के बघाट में दो पुलिसकर्मियों की हत्या की घटना में रूप से शामिल था. वह इससे पहले भी घाटी में कई हमलों को अंजाम दे चुका था.

टॉप टेन आतंकियों की सूची में था शामिल
जम्मू कश्मीर पुलिस (Jammu Kashmir Police) ने इस साल अगस्त में टॉप टेन आतंकियों (Terrorists) की सूची जारी की थी. जिसमें खांडे का भी नाम था. इसके बाद उमर मुश्ताक खांडे सुरक्षाबलों के निशाने पर आ गया था. प्रदेश में अचानक टारगेट किलिंग की घटनाएं शुरू होने पर सुरक्षाबलों ने आतंकियों के खिलाफ अभियान में तेजी ला दी. जिसके बाद शनिवार को खांडे समेत दो आतंकियों को मार गिराया गया.

कश्मीर जोन के आईजी विजय कुमार ने सिविलियन नागरिकों की हत्या के पीछे किसी भी तरह की सुरक्षा चूक से इनकार किया है. उन्होंने कहा कि सभी को सुरक्षा मुहैया कराना संभव नहीं है. ऐसे में आम नागरिक आतंकियों के आसान लक्ष्य (सॉफ्ट टारगेट) हो सकते हैं.

9 दिन में मार गिराए 13 आतंकी
आईजी ने कहा कि पिछले सप्ताह मारे गए किसी भी निवासी को पुलिस ने सुरक्षा मुहैया नहीं कराई थी. उन्होंने कहा कि सुरक्षा बलों ने तेजी से कार्रवाई की और हत्याओं में शामिल सभी पांच आतंकवादियों (Terrorists) की पहचान कर ली. उन्होंने कहा, ‘उनमें से दो को ढेर कर दिया गया है और अन्य तीन को भी जल्द ही ढूंढ लिया जाएगा.’आईजी ने कहा कि 8 अक्टूबर से अब तक नौ मुठभेड़ों में 13 आतंकियों को मार गिराया गया है.

पेशेवर तरीके से निपट रहे सुरक्षाबल
राजनेताओं की ओर से सुरक्षा तंत्र की आलोचना को खारिज करते हुए विजय कुमार ने कहा कि पुलिस पेशेवर तरीके से स्थिति से निपट रही है. उन्होंने कहा, ‘राजनेताओं का काम हर तरह के बयान देना है. मैं एक पेशेवर हूं और मुझे पता है कि इससे कैसे निपटना है. हम इससे पेशेवर तरीके से निपट रहे हैं.