अभी अभीः देश में जीका वायरस का अटैक, बांटे जा रहे कंडोम, महिलाओं को प्रेग्नेंट न होने की सलाह

पुणे: कोरोना महामारी के खतरे के बीच देश में जानलेवा वायरस जीका (virus Zika) ने भी दस्तक दे दी है. स्थिति को देखते हुए महाराष्ट्र का स्वास्थ्य विभाग सतर्क हो गया है और महिलाओं से अगले चार महीने तक गर्भवती न होने की अपील कर रहा है.

इस गांव में आया वायरस का केस
जानकारी के मुताबिक महाराष्ट्र में पुणे के बेलसर गांव में जीका वायरस का एक मामला सामने आया है. इसके बाद से राज्य का स्वास्थ्य विभाग अलर्ट हो गया है. इस वायरस को और फैलने से रोकने के लिए प्रशासन की ओर से लोगों को कंडोम के पैकेट बांटे जा रहे हैं. साथ ही महिलाओं से अगले चार महीने तक गर्भवती न होने की अपील भी की जा रही है.

ऐसे फैलता है ये खतरनाक वायरस

बेलसर प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र के प्रमुख डॉ. भरत शिटोले के अनुसार, एडीज इजिप्टी मच्छर के काटने से जीका वायरस फैल सकता है। यदि कोई व्यक्ति इससे संक्रमित हो जाता है, यदि वह बिना किसी सुरक्षा के किसी के साथ शारीरिक संबंध बनाता है, तो उसे भी यह रोग हो सकता है। इसका कारण यह है कि जीका वायरस पुरुष के वीर्य में चार महीने तक जीवित रह सकता है। ऐसे में जब कोई महिला उस पुरुष से गर्भवती हो जाती है तो उसके अजन्मे बच्चे को भी यह रोग हो सकता है।

ये हैं बीमारी के लक्षण
चिकित्सा विशेषज्ञों का कहना है कि जीका वायरस के लक्षण डेंगू से मिलते-जुलते हैं। इसमें बुखार, शरीर पर रैशेज और जोड़ों में दर्द जैसे लक्षण दिखाई देते हैं। जानकारों के मुताबिक जीका वायरस का फिलहाल कोई टीका या इलाज नहीं है। इसका बचाव ही सावधानी है। यह वायरस बच्चे के मस्तिष्क के विकास को बाधित कर सकता है और इससे समय से पहले प्रसव भी हो सकता है। इसलिए सावधान रहना बहुत जरूरी है।

कंडोम के पैकेट बांटे जा रहे हैं

स्वास्थ्य विभाग की ओर से गांव के लोगों को बड़े पैमाने पर कंडोम के पैकेट बांटे जा रहे हैं. पुरुषों से बिना कंडोम के सेक्स न करने की अपील की जा रही है. इसके साथ ही महिलाओं से अपील की जा रही है कि वे एहतियात बरतें और गर्भवती होने की योजना को अगले 4 महीने के लिए टाल दें। प्रशासन ने लोगों से घबराने के लिए नहीं कहा है, यह एक अस्थायी चरण है और जल्द ही खत्म हो जाएगा।