सावधान! कहीं आपके बच्चे तो नहीं चला रहे फेसबुक और इंस्टाग्राम, फोन देने से पहले पढ़ लें ये जरूरी खबर

यूनाइटेड किंगडम में बच्चों के अधिकारों के लिए काम करने वाली एक संस्था चाइल्ड रेस्क्यू कोलिशन ने फेसबुक को चिट्ठी लिखी है. संस्था ने फेसबुक के सीईओ मार्क जुकरबर्ग को भेजी चिट्ठी में लिखा है कि बच्चों के अभिभावकों में फेसबुक को लेकर गलत संदेश जा रहा है और फेसबुक उनमें अपनी इमेज को खराब कर रहा है. बताते चलें कि अभी हाल ही में फेसबुक के पूर्व प्रोजेक्ट मैनेजर फ्रांसिस होगेन ने अमेरिकी सिनेट में मार्क जुकरबर्ग के फेसबुक की पोल खोलकर रख दी थी. फ्रांसिस होगेन ने फेसबुक से जुड़ी खामियों का खुलासा किया था, जिसके बाद पूरी दुनिया में फेसबुक की बनी-बनाई इमेज को भारी नुकसान पहुंचा था.

फेसबुक पर लगे थे बेहद ही गंभीर आरोप

फ्रांसिस होगने ने अमेरिकी सिनेट में फेसबुक पर आरोप लगाते हुए कहा था कि कंपनी अपने यूजर्स की सुरक्षा से ज्यादा अपने मुनाफे पर ध्यान लगाता है. आरोप के बाद से ही दुनियाभर में फैले फेसबुक की इमेज पर काफी बुरा प्रभाव पड़ने लगा था. फ्रांसिस होगेन द्वारा लगाए गए आरोपों के बाद से ही कंपनी ने फेसबुक के इंटरनल स्ट्रक्चर में सुधार करने की तैयारियां शुरू कर दी थीं.

फेसबुक ने कर्मचारियों से की ये अपील

खबरों के मुताबिक ऐप में सुधार की कवायदें शुरू भी की जा चुकी हैं. अरबों लोगों की सुरक्षा से जुड़ी खामी सामने आने के बाद कंपनी काफी दबाव में है. फेसबुक ने अपने कर्मचारियों से कहा है कि वे कंपनी के किसी भी इंटरनल मैसेज को किसी बाहरी व्यक्ति के साथ शेयर न करें. खबरों के मुताबिक फेसबुक के कर्मचारी जब अपना इंटरनल मैसेज बोर्ड खोलते हैं तो उन्हें एक मैसेज दिखाई देता है, जिसमें लिखा है- हमारी विनती है, कृपया कोई भी इंटरनल जानकारी लीक न करें.

फेसबुक के अन्य ऐप भी बच्चों के लिए घातक

फेसबुक के सीईओ मार्क जुकरबर्ग को भेजी गई चिट्ठी में चाइल्ड रेसक्यू कोलिशन ने लिखा है कि बच्चों के लिए फेसबुक बिल्कुल भी ठीक नहीं है. संस्था ने कहा कि फेसुबक के ऐसे कई फीचर्स हैं जो घातक हैं. इसके अलावा उन्होंने ये भी कहा कि सिर्फ फेसबुक ही नहीं बल्कि इंस्टाग्राम और वॉट्सऐप भी बच्चों के मानसिक विकास के लिए बहुत खराब है.