शख्स ने सालभर में मम्मी को बना डाला ममी, मां की लाश से कमा डाले 44 लाख

आज के समय में लोग पैसों के लिए कुछ भी कर गुजरते हैं. पैसों के चक्कर में लोग अपनों को भी धोखा देने से नहीं चूकते. जिन्दा लोगों को धोखा देने के मामले कम नहीं थे कि अब लोग लाशों से भी पैसे कमाने (Man Earns 44 Lakhs From Dead Body) लगे हैं. बीते दिनों ऑस्ट्रिया से एक खौफनाक घटना सामने आई. यहां एक शख्स ने अपनी मां की लाश को एक साल तक छिपाकर घर में स्टोर (Mothers Corpse Mummified) कर रखा था. शख्स की मां की मौत पिछले साल हो गई थी लेकिन वो नहीं चाहता था कि ये खबर बाहर आए. वजह थी, महिला को मिलने वाला पेंशन.

89 साल की इस महिला को ऑस्ट्रिया सरकार से पेंशन (Austrian Old Age Pension) मिलता था. उसके बेटे को डर था कि अगर मौत की खबर बाहर आ जाएगी, तो उसके पास पैसे आने बंद हो जाएंगे. इस वजह से उसने अपनी मां की लाश को स्टोर कर लिया. और पेंशन का अमाउंट आराम से यूज करता रहा. अधिकारीयों ने मामले की अधिक जानकारी देते हुए बताया कि शख्स ने काफी दिमाग लगाकर अपनी मां की लाश को सड़ने से बचा लिया था. अगर लाश सड़ती तो उससे आने वाली बदबू उसका राज खोल देती.

पिछले साल हुई थी मौत
ऑस्ट्रियाई पुलिस के मुताबिक, उन्हें इन्सब्रुक इलाके में एक घर से 89 साल की महिला की लाश मिली. द मिरर की खबर के मुताबिक, महिला की मौत पिछले साल जून में हो गई थी. जब लाश की ऑटोप्सी की गई तो पता चला कि महिला को उसके 66 साल के बेटे ने ही मारा था. इसके बाद उसने लाश को घर में ही छिपा दिया. लाश सड़े ना, इसके लिए शख्स ने कई तरह के जुगाड़ लगाए थे. शख्स का कहना था कि अगर लाश के बारे में पता चल गया तो उसकी मां को मिलने वाला पेंशन बंद हो जाएगा. पैसों के लालच में उसने मां की लाश को ममी बना दिया.

ऐसे बनाया मम्मी का ममी
शख्स ने अपनी मां की लाश को एक साल में ममी बना डाला. सबसे पहले तो उसने लाश को बर्फ में ढंक कर रखा ताकि उससे बदबू ना आए. इसके बाद बॉडी से निकलने वाले तरल पदार्थ को सोखने के लिए उसने बॉडी को बैंडेज में बांध दिया. लाश से सारा लिक्विड सोख लिया जाए, इसके लिए उसने बॉडी को बिल्ली के खाने के थैले में भर दिया. एक साल के अंदर उसकी मां की लाश ममी में बदल गई.

यूं खुला राज
लाश बरामद करने के बाद पुलिस ने शख्स को अरेस्ट कर लिया. उसके ऊपर हत्या, लाश को छिपाने और फ्रॉड का इल्जाम लगा है. शख्स का बड़ा भाई जब भी अपनी मां से मिलने आता था, उसे झूठ बोलकर वापस लौटा दिया जाता था. मामले की सच्चाई तब सामने आई जब मां के नाम से पेंशन देने एक नया पोस्टमैन आया. उसने महिला के हाथ में पैसे देने की जिद की. जब बेटे ने इससे इंकार कर दिया तब पोस्टमैन ने पुलिस को जानकारी दी. वहां आने के बाद हुई तलाशी में ये राज खुल गया.