‘रोज नहीं नहाती पत्‍नी, मुझे दिला दीजिए तलाक’; पति ने लगाई गुहार

नई दिल्ली: तीन तलाक पर रोक लगाने के लिए केंद्र सरकार की ओर से काननू लाया गया था जिसके बाद से ऐसे मामलों में कमी आई है. बगैर किसी जरूरी वजह के मुस्लिम महिलाओं से तलाक मांगा जा रहा था, यहां तक कि उन्हें प्रताड़ना भी झेलनी पड़ रही थी. लेकिन एक बार फिर यूपी के अलीगढ़ से तलाक का एक अजीब मामला सामने आया है.

वीमन प्रोटेक्‍शन सेल में सुनवाई
मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक अलीगढ़ में एक पति ने पत्नी को रोज न नहाने को तलाक मांगने का आधार बताया है. अब यह मामला वीमन प्रोटेक्‍शन सेल के पास है और कपल की शादी को बचाने के लिए दोनों की काउंसलिंग की जा रही है. इस दौरान जब पति से तलाक मांगने की वजह के बारे में पूछा गया तो उसने हैरान करने वाला जवाब देते काउंसलर से कहा, ‘मैडम मेरी पत्‍नी नहाती नहीं है, मैं इसके साथ नहीं रह सकता, प्‍लीज मुझे तलाक दिला दीजिए.’ तलाक की ऐसी वजह सुनकर वहां मौजूद लोग भी हक्के-बक्के रह गए.

यह मामला अलीगढ़ के चंडौस इलाके का है. जानकारी के मुताबिक दो साल पहले चंडौस के लड़के का निकाह क्‍वार्सी की रहने वाली एक लड़की से हुआ था. शादी की शुरुआती दिन में सब कुछ ठीक रहा लेकिन धीरे-धीरे पति-पत्नी के संबंधों में खटास आने लगी. दोनों एक-दूसरे की आदतों से परेशाना होने लगे और झगड़ा करने लग गए.

पति-पत्नी के रिश्तों में खटास
इस बीच दंपति के एक बेटा भी हुआ, हालांकि बावजूद इसके कपल के बीच रिश्ते सुधरे नहीं. ऐसे में पति ने फैसला लिया कि वह अब महिला के साथ नहीं रहना चहता और मामला वूमेन प्रोटेक्‍शन सेल तक पहुंच गया. सुनवाई के दौरान काउंसलर ने पति और पत्‍नी दोनों को समझाने की कोशिश की, ताकि रिश्ते को टूटने से बचाया जा सके और तलाक न होने पाए.

काउंसलिंग के दौरान पति ने पत्नी के रोज न नहाने की बात को आधार बताकर तलाक की गुहार लगाई. पति ने न सिर्फ उसके नहाने पर सवाल उठाए बल्कि आरोप लगाते हुए कहा कि पत्नी के शरीर से बदबू भी आती है और वह अब इसके साथ एक दिन भी नहीं रहना चाहता है. इन सब आरोपों पर पत्नी ने भी पलटवार करते हुए कहा कि फिजूल की बातों को उठाकर पति उसे लगातार परेशान कर रहा है.