महिला को पसंद नहीं बॉडी का ये ‘अंग’, किया विचित्र एक्‍सपेरिमेंट, हुआ ये हाल

नई दिल्ली: मेडिकल साइंस (Medical Science) का ठीक दिशा में प्रयोग किया जाए तो निश्चित ही बहुत फायदेमंद है लेकिन कई बार लोगों की अजीबोगरीब ख्वाहिश पूरी करने के लिए जब मेडिकल साइंस का मनमाना प्रयोग किया जाता है तो ये खतरे में डाल देता है. ऐसी ही हुआ ब्रिटेन (UK) की एक महिला के साथ, जिसने अपने साथ ऐसे अजीबोगरीब एक्सपेरिमेंट की ठानी, जिस पर बाद में पछताने के अलावा कोई और चारा नहीं रहा.

महिला का अजीबोगरीब फैसला
ब्रिटेन (UK) की ‘द बैड गर्ल गाइड टू बेटर’ की लेखिका केसी बेरोस (Casey Beros) को अपना प्राइवेट पार्ट पसंद नहीं था. उन्होंने इससे छुटकारा पाने के लिए अजीबोगरीब फैसला लिया. केसी ने तय किया कि वे अपने प्राइवेट पार्ट को बार्बी डॉल (Barbie Doll) की शक्ल में बदल लेंगी. इसके लिए सर्जरी का विकल्प चुना, लेकिन आज उन्हें अपने फैसले पर पछतावा हो रहा है.

डॉक्यूमेंट्री देख कर आया खयाल
दरअसल केसी ने लेबियाप्लास्टी (Labiaplasty) पर एक डॉक्यूमेंट्री देखी. इसके बाद ही उन्होंने ‘डिजाइनर रूप’ के बारे में फैसला लिया. लेबियाप्लास्टी एक कॉस्मेटिक प्रक्रिया है जिसके जरिए पार्ट का डिजाइन बदला जा सकता है.

अब होता है अपने फैसले पर पछतावा
दो बच्चों की मां केसी का कहना है, ‘मुझे विचार आया और मैंने अपने पार्ट को बदल दिया. मुझे उम्मीद थी कि मैं पहले से बेहतर महसूस करूंगी और कॉन्फिडेंस बढ़ेगा लेकिन वास्तव में ऐसा नहीं हुआ.’ ऑपरेशन से पहले केसी ने कई सर्जन की राय मांगी और अपनी सर्जरी करने के लिए डॉक्यूमेंट्री में दिखाए गए डॉक्टर से बुकिग ली.

समय के साथ बढ़ती गई शर्मिंदगी
ऑपरेशन के बाद केसी को परेशान करने वाले बदलाव दिखे और जब वो दो बच्चों की मां बन गई तो भावनात्मक तौर पर और परेशान हुईं. जैसे-जैसे समय बीतता गया केसी को अपने फैसले पर शर्म और पछतावा महसूस होने लगा.

वीडियो की असलियत क्या थी?
अब केसी को लगता है कि वह जिस वीडियो को देखकर प्रभावित हुई थी असल में वो वास्तविक नहीं था. वीडियो के साथ छेड़छाड़ की गई. केसी ने महसूस किया कि उसके फैसले का असर उसके बच्चों पर भी पड़ सकता है. अब केसी लोगों को ऐसे अजीबोगरीब फैसले न लेने के लिए प्रेरित कर रही हैं.