बुरा समय आने से पहले मिलते हैं ये 7 संकेत, कभी न करें नजरअंदाज

जिंदगी में अच्‍छा और बुरा वक्‍त दोनों ही आने से पहले संकेत जरूर देते हैं. धर्म-पुराणों, ज्‍योतिष में ऐसे संकेतों (Indications) के बारे में बताया भी गया है. ये संकेत पैसों, मान-सम्‍मान, रिश्‍तों, दुर्घटनाओं, झगड़ों आदि से जुड़े होते हैं. यदि व्‍यक्ति जागरुक रहे तो वह आसानी से इन संकेतों को पहचान सकता है और समय रहते नुकसान को रोक सकता है या कम कर सकता है.

ज्‍योतिष में शनि को न्‍याय का देवता कहा गया है. वे कर्मों के मुताबिक व्‍यक्ति को फल देते हैं. साथ ही शनि की क्रूर दृष्टि व्‍यक्ति की जिंदगी संकटों, परेशानियों का कारण बनती है. आज हम ऐसे संकेतों के बारे में जानते हैं जो शनि के अशुभ असर या जिंदगी में होने वाली बुरी घटनाओं का इशारा देते हैं.

जूते-चप्‍पल चोरी होना
यदि जातक के जूते-चप्‍पल बार-बार चोरी हों तो समझिए जातक पर शनि का प्रकोप है. इससे बचने के लिए शनि का अशुभ असर कम करने के उपाय करने चाहिए.

बुरे सपने आना
यदि रोजाना बुरे सपने आएं तो यह घर में झगड़े होने या घर के किसी सदस्‍य पर मुसीबत आने का संकेत है. बुरे सपने का जिक्र किसी से न करें.

बेवजह नुकसान होना
बेवजह नुकसान होने लगे, आते हुए पैसे रुक जाएं, कहीं से कोई आए न हो तो समझिए शनि का अशुभ असर है. शनि का ऐसा प्रकोप इस कदर धन हानि कराता है कि व्‍यक्ति को अपना गुजारा करने के लिए जमापूंजी का सहारा लेना पड़ता है.

आंख फड़कना
महिला का दायां अंग या आंख और पुरुष का बायां अंग या आंख फड़कना अच्‍छा नहीं होता है. जब भी ऐसा हो तो भगवान की प्रार्थना करें और सकारात्‍मक सोचें.

छिपकलियों का लड़ना
छिपकलियों का लड़ना भी संकट आने का संकेत है. कभी ऐसा होते दिखे तो छिपकलियों को अलग-अलग कर दें.

नशे की आदत बढ़ना
व्‍यक्ति में अचानक शराब या नशे का सेवन करने की आदत बढ़ जाए, उसमें अच्‍छे-बुरे की पहचान न रहे तो यह भी बुरा समय आने का संकेत है. ऐसे में व्‍यक्ति को समय रहते संभल जाना चाहिए.

नींद उड़ जाना
घर में अचानक किसी सदस्‍य की नींद उड़ जाए तो यह भी संकट की दस्‍तक का संकेत है. ऐसे में रोज रात को हनुमान चालीसा पढ़कर या भगवान की प्रार्थना करके सोएं.

(नोट: इस लेख में दी गई सूचनाएं सामान्य जानकारी और मान्यताओं पर आधारित हैं.)