पुरुषों की सेक्स रिपोर्ट से खुलासा: एक तिहाई पति करते हैं अपनी पत्नी से जबरदस्ती

नई दिल्ली: अभी हाल ही में अगस्त 2021 में हाईकोर्ट ने अगल-अगल टिप्पणी मैरिटल रेप के मामलों पर की और अपने फैसले भी सुनाए। इंटरनेशनल सेंटर फॉर विमेन एंड यूनाइटेड नेशंस पॉपुलेशन फंड ने साल 2014 में एक सर्वे किया था। जिसमें एक चौंकाने वाली रिपोर्ट आई थी। जिसमें कहा गया कि कई पुरुषों ने स्वीकार किया था कि वो अपनी पत्नी के साथ जबरन संबंध बनाते हैं।

सर्वे रिपोर्ट से खुलासा
राष्ट्रीय परिवार स्वास्थ्य सर्वे की रिपोर्ट बताती है कि देश के एक तिहाई भारतीय पुरुषों ने खुद स्वीकार किया कि उन्होंने अपनी पत्नियों के साथ जबरन सेक्स किया। वहीं देश के 28 राज्यों में 10 महिलाओं ने बताया कि उनके पति उन्हें उनके साथ शारीरिक संबंध बनाने के लिए मजबूर करते हैं। जबकि ऐसा करना दुनिया के 151 देशों में अपराध है।

जबकि अगर भारत में आईपीसी की धारा 375 की बात करें तो मैरिटल रेप अपराध नहीं है, यह एक अपवाद है। एक्ट में कहा गया है कि अगर पत्नी की उम्र 18 साल से ज्यादा है, तो पुरुष का अपनी पत्नी के साथ शारीरिक संबंध रेप नहीं माना जाएगा। भले ही यह संभोग पुरुष द्वारा जबरन या पत्नी की इच्छा के विरुद्ध हो।

वहीं दूसरी भारत, पाकिस्तान और चीन समेत 34 ऐसे देश हैं जहां पर मैरिटल रेप अपराध नहीं है। इन 34 देशों में ऐसा माना जाता है कि मैरिटल रेप न तो अपराध है और न ही न पत्नी अपने पति के खिलाफ कोई शिकायत कर सकती है। इन देशों में बांग्लादेश, अफगानिस्तान और सऊदी अरब भी शामिल हैं।