नौकरानी का खुलासाः भाभी के सामने मालकिन बाथरूम में जाने का डालती थीं दबाव, वहां भैया…

कानपुर। साहब!  सूर्यांश भईया अक्सर आंचल भाभी को पीटते थे और मालकिन सामने बैठकर तमाशा देखती रहती थीं। अकसर ही मालकिन, भईया और भाभी में झगड़ा होता था। इस दौरान हमें बाहर कर दिया जाता था और तीनों एक कमरे में झगड़ते थे। भाभी (आंचल) को परेशान करने के लिए मालकिन (निशा) मुझे इस्तेमाल करना चाहती थीं…। जब भैया जिम में या बाथरूम में होते थे तो मालकिन मुझे भाभी के सामने उनके पास जाने का दबाव डालती थीं…, लेकिन मैं मना कर देती थी। यह बात जानकर भाभी बहुत नाराज होती थीं..। यह सनसनीखेज खुलासा कारोबारी की एक नौकरानी राधिका ने पुलिस को दिए बयान में किया।

बताते चलें कि कानपुर के अशोक नगर में शुक्रवार देर रात एक मसाला कारोबारी की पत्नी की संदिग्ध हालात में मौत हो गई थी। बाथरूम में दुपट्टे के फंदे से उसका शव लटकता मिला था। मसाला कारोबारी के घर में दो नौकरानियां रहती हैं। इन दोनों नौकरानियों को निशा खरबंदा दिल्ली के अनिल नाम के एजेंट से खरीद कर लाईं थीं।

दोनों ही नौकरानियों की उम्र करीब 16 से 18 के बीच है। उन्होंने अपने नाम मूलरूप से असम निवासी राधिका व झारखंड निवासी किरन बताया। मालकिन निशा ने राधिका को करीब दो साल पहले और किरन को तीन माह पूर्व एजेंट से खरीदा था। इसके बाद से दोनों इसी घर में रह रही थीं।

सूर्यांश कुत्ते पालने का शौकीन है। ढाई तीन लाख रुपये के महंगे विदेशी कुत्ते भी उसके घर में पले हुए हैं। उसने 7 पिटबुल नस्ल के खतरनाक कुत्ते पाल रखे हैं। इन कुत्तों को मकान के एक हिस्से में बंद कर दिया गया। कुत्तों के नजदीक जाने की कोई हिम्मत नहीं जुटा सका। ऐसे में कुत्तों को भी घर के अंदर ही बंद कर दिया गया। हालांकि, पुलिस ने कुत्तों को सुरक्षित स्थान पर पहुंचाने के लिए किसी एनजीओ से संपर्क करने की बात कही है।

पोस्टमार्टम हाउस में आंचल के शव को सड़क पर रख कर जाम लगाने की जिद कर रहे परिजनों से पुलिस की बहस होने लगी। इस बीच पिता आक्रोशित होकर पोस्टमार्टम में ही अपना सिर पटक कर जान देने के लिए भागे।

लोगों ने उन्हें किसी तरह पकड़ कर रोका। उन्होंने कहा अगर इंसाफ नहीं मिला तो यहीं जान दे दूंगा। पुरुष पुलिस कर्मियों के महिलाओं से छीनाझपटी करने को लेकर भी परिवार की महिलाएं आक्रोशित हुईं। बाद में थानों से महिला पुलिस बल बुलवाया गया।