ऐशोआराम के लिए इस महिला ने जो किया, आप प्लीज कभी ऐसा मत करना

सिडनी: आलिशान लाइफ जीने की सनक में एक 28 साल की महिला (Woman) ने झूठ की ऐसी कहानी रची कि सुनने वाला हर शख्स हैरान रह गया. महिला ने कहा कि उसे कैंसर (Cancer) है और वह तीन महीने से ज्यादा जिंदा नहीं रहेगी. उसने इलाज के नाम पर रिश्तेदारों-दोस्तों के साथ-साथ आम लोगों से लाखों रुपये जुटाए और उसे घूमने-फिरने में उड़ा दिए.

Fake Medical Reports बनाईं
‘द सन’ की रिपोर्ट के मुताबिक, 28 वर्षीया हैना डिकिंसन (Hanna Dickinson) ने अपनी मां से कहा कि वो दुर्लभ कैंसर से पीड़ित है और तीन महीने से ज्यादा नहीं बचेगी. अपने झूठ को सच दिखाने के लिए हैना ने फर्जी मेडिकल रिपोर्ट और बिल भी तैयार किए. इसके बाद उसने लोगों की भावनाओं से खेलते हुए इलाज के नाम पर उनसे पैसा वसूला. जिस किसी को भी हैना ने कैंसर की बात बताई, वो दुखी हो गया और जितना संभव हुआ उतना डोनेशन दिया.

Dickinson ने इतना पैसा जुटाया
हैना डिकिंसन ने दोस्तों-रिश्तेदारों से 22 हजार पाउंड (करीब 23 लाख रुपये) और अन्य लोगों से 54 हजार पाउंड (लगभग 56 लाख रुपये) इलाज के नाम पर लिए. हैना ने लोगों से कहा कि उसकी कीमोथेरेपी (Chemotherapy) शुरू होने वाली है और वो इसके लिए विदेश जाएगी. जबकि उसने पूरा पैसा अपने ऐशोआराम पर खर्च कर डाला. हालांकि, बाद में किसी तरह उसका झूठ सामने आया और उसे अपने कीये की सजा भी मिली.

एक और मामले में हुई सजा
ऑस्ट्रेलिया की एक अदालत ने हैना डिकिंसन को ढाई साल की सजा सुनाई, जिसे बाद में एक साल कर दिया गया. अब एक और जालसाजी के मामले में मेलबर्न मजिस्ट्रेट कोर्ट ने उसे चार महीने की सजा सुनाई है. उसे अपने मैनेजर के नाम से फर्जी सर्टिफिकेट तैयार करने का दोषी पाया गया है. इतना ही नहीं, एल लोन डिफ़ॉल्ट के मामले में भी कोर्ट डिकिंसन को पहले दोषी करार दे चुकी है.