इन ‘गंदी आदतों’ के चलते रुक जाती है तरक्की, कहीं आप भी तो नहीं कर रहे ये गलतियां?

धन की देवी लक्ष्मी (Devi Laxmi) बहुत चंचल होती हैं, आज यहां तो कल वहां. उन्‍हें अपने पास रोककर रखना, हमेशा उनकी कृपा पाते रहना मुश्किल होता है. उस पर यदि व्‍यक्ति ऐसे काम करे जो मां लक्ष्‍मी को सख्‍त नापसंद हों, तब तो मां लक्ष्‍मी को उससे दूर जाते देर नहीं लगती है. जाहिर है जहां देवी लक्ष्‍मी नहीं रहतीं, वहां गरीबी और दुख रहते हैं. आज जानते हैं वो कौनसी आदतें (Habits) हैं जो व्‍यक्ति को गरीब (Poor) बनाती हैं.

बिस्‍तर पर बैठकर खाना
मां अन्‍नपूर्णा देवी लक्ष्‍मी का ही एक रूप हैं. बिस्‍तर पर बैठकर खाना खाने से अन्‍न का अपमान होता है और मां लक्ष्‍मी नाराज होती हैं. भोजन हमेशा सम्‍मानजनक तरीके से आसन पर या टेबल-कुर्सी पर बैठकर करना चाहिए. बिस्‍तर पर बैठकर खाना खाने से कर्ज चढ़ता है, साथ ही व्‍यक्ति बीमारियों का शिकार होता है.

किचन में जूठे बर्तन छोड़ना
कई घरों में रात में भोजन करने के बाद किचन में ही जूठे बर्तन छोड़ देते हैं. ऐसा करना भी मां अन्‍नपूर्णा का अपमान है. वास्‍तु शास्‍त्र के मुताबिक रात में किचन को हमेशा साफ करना चाहिए वरना देवी लक्ष्‍मी नाराज हो जाती हैं.

घर के सामने डस्‍टबिन रखना
यदि घर के मुख्‍य द्वार के सामने डस्‍टबिन रखा है तो उसे तुरंत हटा दें, वरना देवी लक्ष्‍मी तो नाराज होंगी ही, पड़ोसियों के साथ भी रिश्‍ते बिगड़ने में देर नहीं लगेगी.

महिलाओं का अपमान करना
जिस घर में महिलाओं का अपमान होता है, वहां मां लक्ष्‍मी कभी नहीं रहती हैं. लिहाजा महिलाओं, गरीबों का अपमान कभी न करें.

जमीन पर न रखें पूजा का सामान
पूजा के दौरान कभी भी कोई सामान जमीन पर न रखें. भगवान को अर्पित की जानी वाली हर चीज थाल में रखें.

शाम को न दें ये चीजें
शाम के समय दूध, दही, नमक किसी को न दें. इससे घर की लक्ष्‍मी चली जाती है.

(नोट: इस लेख में दी गई सूचनाएं सामान्य जानकारी और मान्यताओं पर आधारित हैं. )