रिसर्च में खुलासा : अधिक स्मार्टफोन के इस्तेमाल से बच्चे समय से पहले हो रहे हैं इस बीमारी का शिकार

use-of-more-smartphones

विज्ञान के इस दौर में हमारी जिंदगी लगभग पूरी तरह से तकनीकों पर आधारित हो गई है। चुकी इन तकनीकों ने हमारी जिंदगी जीने के नियम को काफी आसान बना दिया है, जिसमे स्मार्टफोन का बेहद अहम भूमिका है। अपने स्मार्टफोन को हम सभी लगातार इस्तेमाल करते हैं। इससे हमारी आंखों पर बुरा प्रभाव पड़ता है. .इस बात को कई लोग नजरअंदाज भी कर देते हैं। इसका एक कारण यह भी है कि हमारी लाइफस्टाइल और काम हमें स्मार्टफोन या अन्य इलेक्ट्रॉनिक डिवाइसेज को छोड़ने की अनुमति नहीं देते हैं।

मौसम विभाग की चेतावनी : इन 7 राज्यों में आने वाला है तूफानी कहर …जान ले वरना

टोलेडो की एक यूनिवर्सिटी की रिसर्च में सामने आया है, कि स्मार्टफोन या अन्य डिवाइस पर लगातार काफी समय तक काम करने के चलते जब तक व्यक्ति 50 की उम्र तक अपनी देखने की शक्ति खो सकता है। जिस कारण यूजर को आंख की बीमारी होने की भी ज्यादा संभावनाएं हैं। ब्लू लाइट आंख के रेटिना में ऑप्टिकल कैमिस्ट्री रिसर्च के अनुसार, महत्वपूर्ण अणुओं को सेल किर्ल्स में बदल देता है। इससे आंखों पर गहरा असर पड़ता है।

इम्यूनिटी मजबूत करने के लिए डाइट में शामिल करें ये चीजें… मिलेंगे गजब के फायदे

स्टडी में यह दावा किया गया है कि लगातार ब्लू लाइट में काम करने से आंखों की बीमारी हो सकती है। या 50 की उम्र तक देखने की शक्ति कोई व्यक्ति खो सकता है।

अन्य डिवाइसेज की स्क्रीन अंधेरे में स्मार्टफोन समेत नहीं देखनी चाहिए। अगर आप चश्मा लगाते हैं तो आपको हाई-क्वालिटी लेंस को चुनना चाहिए जो ब्लू लाइट और यूवी फिल्टर के साथ आते हैं। ऑप्टिकल कैमिस्ट्री रिसर्च के अनुसार, ब्लू लाइट आंख के रेटिना में महत्वपूर्ण अणुओं को सेल किर्ल्स में बदल देता है। इससे आंखों पर गहरा असर पड़ता है।

Big News: 18 मई से इन छूट के साथ लागू होगा लॉकडाउन-4.0? यहां देंखे विस्तार से…

loading…