महाराष्‍ट्र में कोरोना ‘विस्‍फोट’, घिरे उद्धव ठाकरे, यहां जाने विस्तार से

मुंबई। महाराष्‍ट्र में कोरोना महामारी पूरे चरम पर है। यहां कोरोना वायरस के कुल मामले 17 हजार के करीब पहुंच गए हैं। दिन प्रतिदिन पॉजिटिव मरीजों की संख्‍या बढ़ती जा रही है। अबतक 651 लोगों की मौत हो चुकी है। इन सबको लेकर राज्‍य की उद्धव ठाकरे सरकार पर लगातार सवाल उठाए जा रहे हैं। हारकर महाराष्‍ट्र सरकार को केंद्र से भी मदद की गुहार लगानी पड़ी है। महाराष्‍ट्र के मंत्री अपनी ही सरकार पर प्रश्‍नचिह्न खड़ा कर रहे हैं। मुंबई के सायन अस्पताल में शवों के बीच कोरोना मरीजों का इलाज किए जाने के मुद्दे ने आग में घी का काम किया है। सोशल मीडिया पर भी लोग मुख्‍यमंत्री उद्धव ठाकरे को घेर रहे हैं। ट्विटर पर #UddhavMustAnswer ट्रेंड कर रहा है। यूजर लगातार महाराष्‍ट्र सरकार से बढ़ते मामलों को लेकर जवाब मांग रहे हैं।

गाजियाबाद की सोसाइटी में डॉक्टरों की एंट्री बैन, गृहमंत्री से लगाई गुहार

महाराष्‍ट्र में घोषित लॉकडाउन को लेकर जारी किए गए दिशा-निर्देशों को लेकर उद्धव कैबिनेट के मंत्री छगन भुजबल ने अपनी सरकार के खिलाफ नाराजगी जताई है। वरिष्‍ठ एनसीपी नेता और खाद्य एवं नागरिक आपूर्ति मंत्री छगन भुजबल का कहना है कि महाराष्‍ट्र से मजदूरों के पलायन की तस्वीरें राज्य सरकार के लिए अशोभनीय हैं। यह सब देखकर मन बेचैन है। भुजबल ने स्वीकार किया कि लॉकडाउन के संबंध में प्रशासन के विरोधाभाषी आदेशों के कारण भ्रम पैदा होने के साथ ही राज्य में अफरातफरी का माहौल बन रहा है।

loading...

कोरोना: डरा रही एम्स डायरेक्टर की भविष्यवाणी, जानकर रह जायेंगे दंग

छगन भुजबल ने गुरुवार को एक मराठी न्यूज चैनल से बातचीत में कहा कि लॉकडाउन के कारण फंसे लोग घर वापस जाने का इंतजार कर रहे हैं, लेकिन कोई स्पष्ट आदेश नहीं है। राज्य सरकार की ओर से बार-बार जारी हो रहे विरोधाभाषी आदेशों के चलते भ्रम पैदा होने के साथ ही लोगों में अफरातफरी के हालात पैदा हो सकते हैं। उन्होंने कहा कि आपदा प्रबंधन कानून के लागू होने के कारण अधिकतर शक्तियां मंत्रियों के बजाय प्रशासनिक अधिकारियों के पास है। कल कैबिनेट में श्रमिकों के प्रवास के मुद्दे पर चर्चा की गई थी।

वहीं, हर तरफ उठ रहे सवालों के बीच गुरुवार शाम को महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने कोरोना वायरस के बढ़ते संक्रमण को लेकर एक सर्वदलीय बैठक की। ठाकरे वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिए बैठक में शामिल हुए। उन्होंने राज्य में कोरोना की रोकथाम को लेकर किए जा रहे उपायों पर चर्चा की। सर्वदलीय बैठक में डेप्युटी सीएम और एनसीपी नेता अजीत पवार, पूर्व सीएम देवेंद्र फड़णवीस, कांग्रेस के अशोक चव्हाण, राज ठाकरे और अन्य नेता भी मौजूद थे।

भारत के बाद अब अमेरिका ने उठाया चीन के खिलाफ बड़ा कदम, लगा झटका

आपकों बता दें कि गुरुवार सुबह मुंबई के सायन अस्पताल का एक हैरान करने वाला वीडियो वायरल हो रहा है। वीडियो में दिख रहा है कि अस्पताल के वॉर्ड में कई मरीज बेड पर लेटे हैं। मरीजों के बीच में काले प्लास्टिक के बैगों में कोरोना पॉजिटिव मरीजों के शव भी वॉर्ड के बेडों पर रखे हैं। कुछ शवों को कपड़ों से तो कुछ कंबल से ढका गया है। बताया जा रहा है कि वॉर्ड में मरीजों के बीच कई ऐसे शव पड़े थे।

वीडियो वायरल होने के बाद सोशल मीडिया पर लापरवाही को लेकर लोग तीखी प्रतिक्रिया कर रहे हैं। बीजेपी नेता नीतीश राणे ने भी वीडियो ट्वीट किया है। उन्होंने लिखा, ‘सायन अस्पताल में शवों के साथ मरीज भी सो रहे हैं। यह अति है। यह कैसे प्रशासन है। बहुत ही शर्मनाक बात है।’

loading…