चीन मामले में कांग्रेस नेता ने अपनी ही पार्टी को घेरा, दिया ये बयान

मुंबई: कांग्रेस नेता मिलिंद देवड़ा ने चीन में अपनी ही पार्टी को घेर लिया है। उन्होंने ट्विटर पर लिखा कि एकीकरण के दौरान हो रही राजनीतिक छेड़छाड़ के कारण हम दुनिया में एक तमाशा बन गए हैं। देवड़ा ने कहा कि चीन के खिलाफ एकजुट होने की जरूरत है।

देवड़ा ने कहा, “यह बहुत दुर्भाग्यपूर्ण है कि जब चीन के अतिक्रमण के खिलाफ राष्ट्रीय आवाज को एकजुट किया जाना चाहिए, तब राजनीतिक बदले कीचड़ हो रही है। हम दुनिया में एक तमाशा बन गए हैं। चीन के खिलाफ एकजुट होने की जरूरत है।”

इससे पहले एनसीपी प्रमुख शरद पवार ने भी चीन मामले पर कांग्रेस को सलाह दी थी। शरद पवार ने कहा कि राष्ट्रीय सुरक्षा को लेकर राजनीति नहीं की जानी चाहिए।

उन्होंने कहा था कि वर्ष 1962 में जो हुआ उसे भुलाया नहीं जा सकता। चीन ने हमारे 45 हजार वर्ग किमी क्षेत्र पर अतिक्रमण किया था। पवार ने कहा, ‘वर्तमान में, मुझे नहीं पता कि उन्होंने किसी जमीन पर कब्जा किया है, लेकिन हमें इस पर चर्चा करने के बाद अतीत को याद रखने की जरूरत है।’

पवार की टिप्पणी कांग्रेस नेता राहुल गांधी के इस आरोप पर थी कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने चीन की आक्रामकता के कारण भारतीय क्षेत्र को सौंप दिया। उन्होंने यह भी कहा कि रक्षा मंत्री की विफलता का वर्णन करने के लिए लद्दाख में गालवन घाटी की रक्षा को तेज नहीं किया जा सकता क्योंकि गश्त के दौरान भारतीय सैनिक सतर्क थे। पूर्व केंद्रीय मंत्री ने मीडिया से बात करते हुए कहा कि पूरा प्रकरण “संवेदनशील” प्रकृति का है। चीन ने गैल्वान घाटी में भड़काऊ रुख अपनाया।

पूर्व रक्षा मंत्री ने कहा कि भारत संचार उद्देश्यों के लिए अपने क्षेत्र के भीतर गैलवन घाटी में एक सड़क का निर्माण कर रहा था। पवार ने कहा, “उन्होंने (चीनी सैनिकों ने) हमारी सड़क पर अतिक्रमण करने की कोशिश की और धक्का-मुक्की की।” यह किसी की विफलता नहीं है। यदि कोई (आपके क्षेत्र में) गश्त करते समय आता है, तो वे किसी भी समय आ सकते हैं। हम यह नहीं कह सकते कि यह दिल्ली में बैठे रक्षा मंत्री की विफलता है।

loading…