अभी अभीः अगले हफ्ते और तेजी से फैल सकता है कोरोना वायरस, जानिए वजह..

कोरोना वायरस का कहर देश में लगातार बढ़ता ही जा रहा है। ऐसे में कोरोना के बढ़ते संक्रमण के बीच मरीजों का इलाज और मृत्युदर को कम करना सरकार की पहली प्राथमिकता बन गई है। फिलहाल हर दिन कोरोना वायरस संक्रमण के 3000 से अधिक नए मामले सामने आ रहे हैं और लॉकडाउन में मिली कुछ छूट के कारण अगले हफ्ते मरीजों की संख्या और ज्यादा होना तय माना जा रहा है। स्वास्थ्य मंत्रालय के हालिया आंकड़ों के अनुसार, देश में कोरोना वायरस के कुल संक्रमितों की संख्या 56,000 के पार कर चुकी है और आने वाले पांच दिन में 75 हजार से भी अधिक हो सकती है।

क्रिकेट खेलने के दौरान पेट में लगी चोट से युवक की मौत

बता दें कि, देश में कोरोना वायरस के मरीजों की संख्या भले ही काफी तेजी से बढ़ रही हो, लेकिन सबसे अच्छी बात यह है कि कोरोना वायरस से संक्रमित हर तीसरा मरीज स्वस्थ्य होकर घर भी जा रहा है। जहां कोरोना वायरस से ठीक होने वाले मरीज 29.36 प्रतिशत है, वहीं इस महामारी से मरने वाले मरीज 3.2 प्रतिशत ही हैं। स्वास्थ्य मंत्रालय के संयुक्त सचिव लव अग्रवाल ने शुक्रवार देर शाम मीडिया से खास बातचीत में कहा कि, वैसे तो दुनिया के अलग-अलग देशों की तुलना में भारत में कोरोना वायरस से मरने वालों का प्रतिशत बहुत ही कम है, लेकिन इसे और भी बेहतर किया जा सकता है।

अभी अभीः राजस्थान सरकार का बडा ऐलान, इस तारीख से खोले जायेंगे स्कूल

भर्ती मरीजों का आंकड़ा देते हुए संयुक्त सचिव लव अग्रवाल ने कहा कि, देश में कुल मरीजों में मात्र 1.1% मरीजों को ही वेंटिलेटर पर रखने की जरूरत पड़ रही है। 3.2% मरीजों को आक्सीजन और कुल 4.7% मरीजों को आइसीयू (ICU) में रखना पड़ता है। यानी केवल 9% मरीजों को अस्पताल में विशेष इलाज की जरूरत पड़ रही है। बाकी 91% मरीज सामान्य इलाज से ही पूरी तरह स्वस्थ्य हो रहे हैं।

103 ग्रीन जिले हुए रेड या आरेंज- स्वास्थ्य मंत्रालय के अनुसार, भारत में कुल 319 जिलों को ग्रीन जोन में दिखाया गया था। ये वे जिले हैं, जिनमें उस समय तक एक भी कोरोना वायरस का मामला सामने नहीं आया था। संयुक्त सचिव लव अग्रवाल ने आगे बताया कि बिना संक्रमण वाले जिलों की संख्या अब 216 रह गई है। यानी पिछले कुछ दिनों में 103 नए जिले कोरोना वायरस की चपेट में आए हैं।

loading…