अगर हमारी बात सुनी होती, तो इतने न बिगड़ते हालात- WHO

जेनेवा/नई दिल्ली। विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) ने कहा है कि यदि दुनिया भर के देशों ने कोरोना वायरस ‘कोविड-19’ को लेकर जनवरी में ही उसकी सलाह मानी होती तो इस समय स्थिति इतनी खराब नहीं होती। डब्ल्यूएचओ के महानिदेशक डा. तेद्रोस गेब्रियेसस ने कोविड-19 पर नियमित प्रेसवार्ता में एक प्रश्न के उत्तर में कहा कि संगठन ने 30 जनवरी को ही वैश्विक स्वास्थ्य आपातकाल की घोषणा कर दी थी, जब चीन से बाहर कोरोना वायरस के सिर्फ 82 मामले थे और एक भी मौत नहीं हुई थी। जिन देशों ने उस समय डब्ल्यूएचओ की सलाह मानी, वे आज बेहतर स्थिति में हैं। उन्होंने कहा कि हम सर्वश्रेष्ठ विज्ञान और साक्ष्यों के आधार पर सलाह देते हैं। कोविड-19 को लेकर हमने 30 जनवरी को सर्वोच्च स्तर के वैश्विक स्वास्थ्य आपातकाल की घोषणा की थी। उस समय दुनिया को डब्ल्यूएचओ की बात ध्यान से सुननी चाहिए थी, क्योंकि सर्वोच्च स्तर का स्वास्थ्य आपातकाल घोषित किया गया था।

Breaking News: कोरोना मरीजों का इलाज करने वाले डॉक्टर्स आखिर क्यों खिंचा रहे हैं नग्न फोटा?

…आप स्वयं देख सकते हैं कि जिन देशों ने हमारी सलाह मानी आज उनकी स्थिति कहीं बेहतर है। यह सच्चाई है। श्री तेद्रोस ने कहा कि डब्ल्यूएचओ सिर्फ सलाह दे सकता है। देशों से उसे लागू करवाने का उसके पास कोई अधिकार नहीं है। सलाह मानना या न मानना उनके ऊपर है। स्वास्थ्य आपातकाल की घोषणा होते ही सभी देशों को अपने जन स्वास्थ्य उपायों में तेजी लानी चाहिए थी। हमने पूरी दुनिया को एक व्यापाक जन स्वास्थ्य नीति अपनाने की सलाह दी थी। हमने कहा था कि वे कोरोना वायरस के संदिग्ध मामलों की पहचान करें, उनकी जांच करें और उनके संपर्क में आए लागों की पहचान करें।

loading…