रोज़ाना दिन के ये 90 मिनिट होते है बहुत ही अशुभ, इस कभी ना करे कोई शुभ कार्य

अक्सर लोग अच्छा मुहर्त देखकर ही काम करते है। और इसके अलावा अच्छा काम करने के लिए अच्छा मुहर्त निकलवाते है। लेकिन आपने राहुकाल का नाम सुना सभी ने होगा, लेकिन बहुत ही कम लोग ये जानते हैं कि राहुकाल होता क्या है और ये किस प्रकार अशुभ फल प्रदान करता है? ज्योतिषशास्त्र में राहुकाल से जुड़े सभी रहस्यों के बारे में बताया है। साथ ही आज हम ये भी जानेंगे किस दिन, किस समय राहुकाल के कारण हमें शुभ कार्य नहीं करना चाहिए।

ज्योतिष में राहु को छाया ग्रह माना गया है। यह ग्रह अशुभ फल प्रदान करता है। इसलिए इसके आधिपत्य का जो समय रहता है, उस दौरान शुभ कार्य करना वर्जित माने गए हैं। सूर्योदय से लेकर सूर्यास्त तक के समय में से आठवें भाग का स्वामी राहु होता है। इसे ही राहुकाल कहते हैं। यह प्रत्येक दिन 90 मिनट का एक निश्चित समय होता है, जो राहुकाल कहलाता है। ज्योतिष शास्त्र के अनुसार, इस समय शुरू किया गया कोई भी शुभ कार्य या खरीदी-बिक्री को शुभ नही माना जाता।

सोमवार – सुबह 7:30 से 9 बजे तक
मंगलवार – दोपहर 3 बजे से 4:30 बजे तक
बुधवार – दोपहर 12 बजे से 1:30 बजे तक
गुरुवार – दोपहर 1:30 बजे से 3 बजे तक
शुक्रवार – सुबह 10:30 से 12 बजे तक
शनिवार – सुबह 9 बजे से 10:30 बजे तक
रविवार – शाम 4:30 से 6 बजे तक

loading…