इस वजह से ऑनलाइन हो रहा है जिस्मफरोशी का बाजार, खुले में लग रही है ‘जिस्म की बोली’

आजकल इंटरनेट पर प्रॉस्टिट्यूशन को बढ़ावा मिल रहा है। सोशल मीडिया का जिस तरह से आजकल लोग इस्तेमाल कर रहे हैं उससे दलालों को ऑनलाइन प्रॉस्टिट्यूशन का उपाय सुझा और अब धड़ल्ले से बिक्री हो रही है अश्लील और आपत्तिजनक चीजों की।

वेबसाइट का इस्तेमाल करने से दलालों की पहचान आसानी से हो जाती है इसलिए अब अपने इस धंधे को बरकरार रखने के लिए वो लोग सोशल मीडिया और मोबाइल एप्स का सहारा ले रहे हैं। यह कोई कहानी नहीं है बल्कि, इस तथ्य का दावा कुछ शोधार्थियों ने किया है जो पिछले कई महीनों से इस पर शोध कर रहे हैं।

21 साल की युवती के साथ 190 किलो के आदमी ने बनाया शारारिक संबंध, हुआ दिल दहला देने वाला हादसा..

वेबसाइट में दलालों की पहचान पता चल जाती थी, जिससे पुलिस को उन्हें पकड़ने में आसानी होती थी। लेकिन ऐसा करने से उन्हें सही दलाल के बारे में जानने में ही बहुत वक्त लग जाता है। इसी संदर्भ में मिशिगन स्टेट यूनिवर्सिटी और लोयोला यूनिवर्सिटी शिकागो के 71 क्रिमिनल का इंटरव्यू लिया गया और पूछा गया कि कैसे ऑनलाइन वेश्यावृत्ति पुलिस प्रवर्तन से प्रभावित होती है। उन्होंने बताया कि दलाल अपनी डील के लिए भ्रामक मार्केटिंग टेकनीक का इस्तेमाल करते हैं जो पुलिस को गलत एंगल में उलझाए रखता है।

loading...

शराब की बोतल खोलने के तरीके से सुर्खियों में आई यह महिला, इंटरनेट पर हो रही है ट्रैंड

आज तकनीक ने वेश्यावृत्ति के रूप को एक नया आकार दिया है। यही वजह है कि 80 प्रतिशत सेक्स की बिक्री ऑनलाइन ही हो रही है। पुलिस और कानून अपनी तरफ से पूरी कोशिश कर रहे हैं उन साइटों का पता लगाने कि जहां से यह अश्लीलता का जहर पूरे विश्व में फैल रहा है।

loading…