जो दुनिया नहीं कर पाई वह भारत ने कर दिखाया, कोरोना को लेकर…

नई दिल्‍ली: पिछले साल चीन से शुरू हुए कोरोना वायरस की काट को लेकर पूरी दुनिया के वैज्ञानिक जुटे हैं, लेकिन अभी तक इसका कोई तोड़ नहीं मिल पाया है। हालांकि कोरोना को लेकर रोज नए-नए खुलासे हो रहे हैं और अब कोरोना वायरस के रूप बदलने की खबर सामने आ रही है। जी हां, एक-दो नहीं बल्कि इस वायरस के अब कई रूप हैं। दावा किया जा रहा है कि कोरोना का ग्यारहवां रूप भी सामने आने लगा है। जो सबसे ज्यादा खतरनाक है। इसे A2A बताया जा रहा है। इसे लेकर रिसर्च में जुटे लोगों ने और भी कई तरह के दावे किए हैं।

कोरोना वायरस ने दुनियाभर में बहुत कुछ बर्बाद किया है। कई देशों में एक साथ लॉकडाउन हैं तो हर दिन इस वायरस से संक्रमित होने वालों की संख्या बढ़ रही है। दूसरी तरफ इस वायरस की वजह से जान गंवाने वालों की संख्या भी बढ़ती ही जा रही है, लेकिन अब जो बातें सामने आ रही है वो पूरी तरह से दुनिया को डराने के लिए काफी है। कहा जा रहा है कि कोरोना वायरस के अब कई रूप हो गए हैं। एक के बाद एक कई रूप सामने आने के बाद से कोरोना के खतरनाक होने का दावा भी किया जा रहा है।

अभी अभीः भारतीय खेल को बड़ा झटका, महान क्रिकेटर और फुटबॉलर का निधन

खबर है कि ये जानलेवा वायरस कोरोना अब खुद में लगातार बदलाव कर रहा है और 10 अलग-अलग टाइप में बदल चुका है, लेकिन अब दावा किया जा रहा है कि इसका एक रूप है A2A। जिसे इस वायरस का 11वां प्रकार बताया जा रहा है। रिसर्च में पता चला है कि A2A टाइप वायरस ज्यादा खतरनाक है और अब यह पूरी दुनिया में सबसे ज्यादा संक्रमण फैला रहा है। कोरोना के 11वें रूप को लेकर नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ बायोमेडिकल जिनोमिक्स बंगाल ने एक शोध किया है और उस शोध में इस बात को लेकर दावा किया जा रहा है।

फिलहाल कोरोना का जो रूप सामने आया है, वो बहुत ज्यादा खतरनाक है। ये भी कहा जा रहा है कि A2A वायरस बाकी अन्य टाइप के वायरस की जगह पूरे दुनिया में फैल गया है। अब कहा ये भी जा रहा है कि इस रिसर्च को बहुत जल्द प्रकाशित किया जाएगा। जो नए रिसर्च सामने आए हैं, उसके मुताबिक A2A वायरस काफी ज्यादा खतरनाक है और इससे काफी ज्यादा नुकसान हो सकता है।

सड़क पर बेवजह निकले लोगों की पुलिस ने उतारी आरती और दिया प्रसाद

दूसरी तरफ लगातार दावा किया जा रहा है कि ये जो रिसर्च अभी किया जा रहा है, उससे कोरोना वायरस को हराने वाले वैक्सिन को बनाने में बहुत ज्यादा मदद मिलेगी। रिसर्च के मुताबिक, पिछले 4 महीने में कोविड-19 वायरस के 10 प्रकार अपने पुराने ‘O’ टाइप के थे। मार्च के आखिरी सप्ताह से A2A ने पुराने वायरस की जगह लेनी शुरू की और पूरी दुनिया में यह फैला चुका है।
अब रिसर्च में शामिल लोगों का दावा है कि यह दूसरे प्रकार के वायरस को रिप्लेस कर चुका है और SARSCoV2 का ताकतवर प्रकार बन चुका है। इस रिसर्च में RNA सीक्वेंस डेटा का भी उपयोग किया गया है, इस डेटा को कोविड-19 पर रिसर्च कर रहे पूरी दुनिया के रिसर्चरों ने जारी भी किया।

अब इस रिसर्च को लेकर ये भी कहा जा रहा है कि कोरोना वायरस को कई प्रकार में बांटा जा सकता है। अभी इस वायरस के 11 टाइप हैं। भारत में अभी कई राज्यों में कोरोना पर कंट्रोल के दावे तो किए जा रहे हैं, लेकिन अभी भी जिस तरह से संक्रमित लोगों की संख्या बढ़ रही है। फिलहाल लोगों को पहले की तरह ही सतर्क रहने की जरूरत है, क्योंकि कोरोना के जिन रूपों को लेकर बातें कही जा रही है उनका खतरनाक रूप संक्रमित लोगों की संख्या को बढ़ा दे तो कोई आश्चर्य नहीं।

loading…