Taza khabar: समय के साथ कोरोना भी बदल रहा है अपना रूप, अब ऐसे हो रही ज्यादा मौतें…

नई दिल्ली: वक्त के साथ-साथ कोरोना बीमारी का स्वरूप भी बदलता हुआ दिख रहा है। तकरीबन एक महीने पहले कोरोना से ज्यादातर ऐसे लोगों की मौतें हो रही थीं जो पहले से किसी अन्य बीमारी से भी ग्रस्त थे। अब इन आंकड़ों में बदलाव आ रहा है। ऐसे लोगों के मरने का प्रतिशत बढ़ा है, जिन्हें पहले से कोई बीमारी नहीं थी।

स्वास्थ्य मंत्रालय की तरफ से छह अप्रैल और तीस अप्रैल को जारी आंकड़ों में यह फर्क साफ नजर आता है। छह अप्रैल को बताया था कि कुल मौतों में 86 फीसदी मौत ऐसे लोगों की हुई हैं जो पहले से किसी बीमारी से ग्रस्त थे। इन्हें गुर्दे, दिल, मधुमेह, उच्च रक्तचाप आदि शामिल हैं। यानी महज 14% कोरोना मौत ही ऐसी थीं जो किसी बीमारी से ग्रस्त नहीं थे।

दो हफ्ते बढाया गया लाॅकडाउन, लेकिन इन जिलों को मिलेगी बडी राहत

30 अप्रैल को जारी आंकड़े के अनुसार कोरोना मौत में अन्य बीमारी से ग्रस्त लोगों की संख्या 78 फीसदी दर्ज की गई। यानी एक महीने से भी कम समय में इसमें आठ फीसदी का बदलाव दर्ज किया गया। कोरोना मौतों में ऐसे लोगों की संख्या बढ़कर 22 फीसदी हो गई जो पहले से किसी अन्य बीमारी से ग्रस्त नहीं थे।

मौत में महिलाओं का प्रतिशत बढ़कर 35 हुआ: मौत में पहले पुरुषों का प्रतिशत 73 और महिलाओं का 27 था लेकिन अब इसमें भी बदलाव आया है। अब मरने वालों में 65 फीसदी पुरुष एवं 35 फीसदी महिलाएं हैं।

अधिक उम्र वालों की मौत का प्रतिशत घट गया: तब मृतकों में 63% लोग 60 वर्ष से ज्यादा के थे। 37%मौत 60 वर्ष से कम आयु वर्ग की थीं। 60 से कम उम्र की मौतों का आंकड़ा 49 और अधिक का प्रतिशत 51% रह गया।

loading…