Breaking news : कोरोना के खिलाफ भारत की एक और जीत… बनाई “फेलूदा स्ट्रिप किट”, मिनटों में करेगी टेस्ट

pheluda strip kit

कोरोना के खिलाफ लड़ाई में भारत को बड़ी कामयाबी मिली है। दरअसल भारतीय वैज्ञानिकों ने एक पेपर बेस्ड टेस्ट स्ट्रिप तैयार किया है। जो कोरोना का पता लगा सकती है। इस टेस्ट किट का नाम ‘फेलूदा’ रखा गया है। जानकारी के मुताबिक, फेलूदा का नाम बांग्ला फिल्मकार सत्यजीत रे की फिल्मों से लिया गया है। दरअसल फेलूदा उनकी फिल्मों का एक किरदार रहा है जो बंगाल में रहने वाला प्राइवेट जासूसी किरदार है, जो छानबीन कर हर समस्या का रहस्य खोज ही लेता है।

अमेरिकी रिसचर्स ने कोरोना वायरस के बारे में बताई ऐसी बात… जानकर सभी रह गए हैरान

बनाई ‘फेलूदा’ स्ट्रिप किट –
एक रिपोर्ट के मुताबिक, इस टेस्ट में कागज की पतली स्ट्रिप में उभरी लाइन से पता चल जाता है कि कोई शख्स कोरोना पॉजिटिव है या नहीं। इससे बड़ी कामयाबी के रूप में देखा जा रहा है। यह पेपर स्ट्रिप-आधारित परीक्षण किट आईजीआईबी के वैज्ञानिक डॉ सौविक मैती और डॉ देबज्योति चक्रवर्ती की अगुवाई वाली एक टीम ने विकसित की है।

 

एक घंटे से भी कम समय में लगा लेगा पता –
यह किट एक घंटे से भी कम समय में नए कोरोना वायरस (एसएआरएस-सीओवी-2) के वायरल आरएनए का पता लगा सकती है। वैज्ञानिकों का कहना है कि आमतौर पर प्रचलित परीक्षण विधियों के मुकाबले यह एक पेपर-स्ट्रिप किट काफी सस्ती है और इसके विकसित होने के बाद बड़े पैमाने पर कोरोना के परीक्षण चुनौती से निपटने में मदद मिल सकती है।

इस महिला ने दान की अपनी डेड बॉडी, फिर डॉक्टर्स ने कर डाले 27 हजार…

आईजीआईबी के वैज्ञानिक डॉ देबज्योति चक्रवर्ती ने कहा –
आईजीआईबी के वैज्ञानिक डॉ देबज्योति चक्रवर्ती ने बताया कि संक्रमण के शिकार संदिग्ध व्यक्तियों में कोरोना वायरस के जीनोमिक अनुक्रम की पहचान करने के लिए इस पेपर-किट में जीन-संपादन की अत्याधुनिक तकनीक क्रिस्पर-कैस-9 का उपयोग किया गया है। बता दें कि अभी इस परीक्षण किट की वैद्यता का परीक्षण किया जा रहा है, जिसके पूरा होने के बाद इसका उपयोग नए कोरोना वायरस के परीक्षण के लिए किया जा सकेगा।

देश में कोरोना केस बढ़कर 74 हज़ार के पार, 24 घंटे में सामने आए 3525 नए मामले, देखे लिस्ट

500 रुपए में बनती है ये किट –
इस किट के आने से वायरस के परीक्षण के लिए वर्तमान में इस्तेमाल की जाने वाली महंगी रियल टाइम पीसीआर मशीनों की जरूरत नहीं पड़ेगी। नई किट के उपयोग से परीक्षण की लागत करीब 500 रुपये आती है। आईजीआईबी के वैज्ञानिकों ने बताया कि वे इस टूल पर लगभग दो साल से काम कर रहे हैं। वैज्ञानिक पिछले करीब दो महीनों से दिन-रात जुटे हुए थे। नियामक निकायों से इसके उपयोग की अनुमति जल्दी ही मिल सकती है, जिसके बाद इस किट का उपयोग परीक्षण के लिए किया जा सकता है।

loading…